किसान की हैं दो पत्नियां और छह बच्चे फिर भी अपने पालतू कुत्ते के साथ किया कुछ ऐसा कि….

कुत्तों को इंसानो का सबसे वफादार जानवर कहा जाता है। सोशल मीडिया पर आए दिन ऐसे चौकने वाले वीडियो सामने आते ही रहते हैं। जिनमें कुत्ते अपने मालिकों की जान बचाते नज़र आते हैं

कुत्तों (dog) को इंसानो का सबसे वफादार जानवर कहा जाता है। सोशल मीडिया पर आए दिन ऐसे चौकने वाले वीडियो सामने आते ही रहते हैं। जिनमें कुत्ते अपने मालिकों की जान बचाते नज़र आते हैं तो कभी बच्चों की देख करते। लेकिन आज जिस व्यक्ति के बारे में बताने जा  रहे है पक्का आप इस खबर पर विश्वास करना मुश्किल होगा। 

दरअसल मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहाँ एक किसान ने अपनी आधी जायदाद अपने कुत्ते (dog)  के नाम कर दी है।

वफादार पालतू कुत्ते के नाम करके सबको चौका दिया है

छिंदवाड़ा के चौरई ब्लॉक के बारी बड़ा गांव के रहने वाले 50 वर्षीय किसान ओम वर्मा ने दो शादियां की हैं। पहली पत्नी से  तीन बेटियां और एक बेटा है। जबकि दूसरी अपत्नी से उन्हें दो बेटियां हैं। किसान ने संपत्ति का आधा हिस्सा अपनी दूसरी पत्नी के नाम किया है। बाकी आधा हिस्सा उसने अपने वफादार पालतू कुत्ते के नाम करके सबको चौका दिया है। जिस किसी ने भी इस खबर को सुना वो हैरान रह गया।

ये भी पढ़ें – रहें सतर्क: भारत में नए कोरोना वायरस के और मरीज मिलें, क्या आपके शहर में दी इसने दस्तक?

दरअसल किसान अपने कुत्ते से बहुत प्यार करता है और कुत्ता भी किसान की पूरी देखभाल करता है। कुत्ते का नाम जैकी है। किसान अपने बेटे के व्यवहार से अत्यंत दुःखी है, इसीलिए उसने अपनी वसीयत में बाकायदा लिख दिया है कि कुत्ता उसकी हर समय देखरेख और पूछ-परख करता है, जो भी व्यक्ति उनके मरने के बाद उसके कुत्ते जैकी का ध्यान रखेगा, वही उसके हिस्से की संपत्ति का हकदार होगा।

आगे चलकर जो जैकी का ध्यान रखेगा

किसान ने अपनी वसीयत में स्पष्ट लिखा है कि उसकी सेवा दूसरी पत्नी चंपा वर्मा और कुत्ता जैकी ही करते हैं। किसान ने बताया है कि वह भी इन्हीं दोनों से सबसे ज्यादा प्यार करता है इसलिए उसकी जायदाद का आधा हिस्सा दूसरी पत्नी और बाकी आधा हिस्सा जैकी को मिलेगा। आगे चलकर जो जैकी का ध्यान रखेगा, वही उसके हिस्से की जायदाद का वारिस होगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button