क्यों गंगा नदी का पानी कभी नहीं होता खराब?

लगभग हर हिंदू परिवार में पानी का एक कलश या कोई दूसरा बर्तन ज़रूर होता था जिसमें होता है गंगाजल।

लगभग हर हिंदू परिवार में पानी का एक कलश या कोई दूसरा बर्तन ज़रूर होता था जिसमें होता है गंगाजल। किसी पूजा के लिए, चरणामृत में मिलाने के लिए, मृत्यु नज़दीक होने पर दो बूंद मुंह में डालने के लिए जिससे कि आत्मा सीधे स्वर्ग में जाए। भारत में लोग गंगा जल को पवित्र मानते हैं और बताते हैं कि इसका पानी खराब नहीं होता।

ये भी पढ़ें – क्या आप जानते हैं बॉलीवुड के दिग्गत अभिनेता नाना पाटेकर का असली नाम ??

आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।गंगा नदी का उद्भव गंगोत्री से हुआ है। गंगा नदी की पवित्रता और अवतरण के सम्बन्ध में कई कहानियां मौजूद हैं। ऐसी अवधारणा है कि गंगा में नहाने से पाप धुल जाते हैं। कहा जाता है कि भगवान भागीरथ की वजह से गंगा धरती पर अवतरित हुई थी। गंगा नदी शिव जी के सिर पर भी विद्द्मान हैं।

जब कोई व्यक्ति मरने वाला होता है तब उसे गंगाजल दिया जाता है ताकि उसकी आत्मा को शांति मिल सके और वह स्वर्ग में निवास कर सके। इसके लिए जब लोग गंगा में स्नान करने जाते हैं तो अपने साथ एक बोतल या कोई अन्य बर्तन लेके जाते हैं जिसमे वह गंगा का पानी भरते हैं और घर पर लाकर रख देते हैं। यह पानी पूजा-पाठ के दौरान बहुत उपयोग होता है। सालों तक रखने के बाद भी इस पानी में कोई कीड़ा या कीटाणु नही पड़ते हैं।

कुछ लोग पानी के ख़राब न होने के पीछे कुदरत का करिश्मा मानते हैं। लोगों का कहना है कि माँ गंगा की दैवीय शक्ति की वजह से गंगा का पानी कभी ख़राब नहीं होता है। हालांकि वैज्ञानिकों ने इस पर एक रिसर्च की। जिसमे पता चला कि गंगा के जल में एक वायरस होता है जो पानी को ख़राब नहीं होने देता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि गंगा के जल में उपस्थित यह वायरस जल को निर्मल बनायें रखता है। इस वजह से जल में सडन नही पैदा होती है।

अगर इतिहास के पन्ने को पलट करके देखा जाय तो पता चलेगा कि सन्न 1890 में जब अर्नेस्ट हैकिंग गंगा के पानी पर रिसर्च कर रहे थे तो उस समय देश में भयंकर महामारी फैली हुई थी। हैजा का प्रकोप हर जगह था। जो लोग हैजा से मर रहे थे उन्हें गंगा नदी में बहाया जा रहा था। हैकिंग को डर था कि कही जो लोग नदी में नहाते हैं अगर वे शवों के अवयवों के संपर्क में आये तो उन्हें भी हैजा हो सकता है।लेकिन जब हैकिंग ने अपनी रिसर्च पूरी की तो उन्हें पता चला कि इसके बावजूद भी गंगा का जल शुद्ध था। इस जल में कोई भी बैक्टीरिया या जीवाणु नहीं मौजूद थे।
हैकिंग ने गंगा के जल पर लगभग 20 साल तक रिसर्च की। इस दौरान उन्होंने पाया कि गंगा के जल में एक वायरस होता है जो पानी को खराब नहीं होने देता है।

उन्होंने इस वायरस को ‘निंजा वायरस’ नाम दिया था। हाल में हुई शोधों में यह बात पता चली है कि निंजा वायरस की वजह से ही पानी में कोई जीवाणु नहीं रहते हैं। यही वजह है कि गंगा का पानी हमेशा शुद्ध रहता है और कभी ख़राब नहीं होता है।

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button