क्रिकेटर सुंदर के ‘वाशिंगटन’ नाम के पीछे है दिलचस्प कहानी, पिता ने…

ब्रिस्बेन में अपनी परफॉर्मेंस से लोगों का दिल जीतने वाले वाशिंगटन सुंदर की हर तरफ चर्चा हो रही है. वाशिंगटन सुंदर के नाम को लेकर लोगों में काफी चर्चा हो रही है. इनके नाम की वजह से लोग समझते हैं उनका वाशिंगटन से कोई गहरा रिश्ता है जिसकी वजह से उनका नाम वाशिंगटन रखा गया है. लेकिन इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी जुड़ी हुई है.

ब्रिस्बेन में अपनी परफॉर्मेंस से लोगों का दिल जीतने वाले वाशिंगटन सुंदर (washington sundar) की हर तरफ चर्चा हो रही है. वाशिंगटन सुंदर के नाम को लेकर लोगों में काफी चर्चा हो रही है. इनके नाम की वजह से लोग समझते हैं उनका वाशिंगटन से कोई गहरा रिश्ता है जिसकी वजह से उनका नाम वाशिंगटन (washington sundar) रखा गया है. लेकिन इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी जुड़ी हुई है.

दरअसल, तमिलनाडु के रहने वाले वाशिंगटन सुंदर एक मध्यम वर्गीय परिवार से आते हैं. ऐसे में आर्थिक स्थिति की समस्याओं से घिरना कोई बड़ी बात नहीं है. लेकिन ऐसे समय उनके परिवार की समस्याओं को दूर करने के लिए जिस शख्स ने मदद की उसका नाम पीडी वाशिंगटन था और पूर्व फौजी थे.

वाशिंगटन (washington sundar) के पिता एम. सुंदर के मुताबिक, पीडी वाशिंगटन को क्रिकेट का शौक था और वो क्रिकेट देखने के लिए आया था करते थे. उन्हीं के नाम पर उन्होंने बेटे का नाम वाशिंगटन सुंदर रखा था.

वाशिंगटन (washington sundar) के पिता ने बताया कि, उन्होंने गरीबी का वो दौर देखा है जब उनके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं होते थे और पढ़ने के लिए किताबें भी नहीं होती थीं. ऐसे समय में पीडी वाशिंगटन उनके लिए किताबें, कपड़े और स्कूल की फीस तक जमा करते थे. इसके साथ ही जब उनका रणजी संभावितों में चयन हुआ तो सबसे ज्यादा खुशी पीडी वाशिंगटन को हुई थी.

इसलिए जब उनका बेटा हुआ तो उन्होंने उस इंसान के नाम पर बेटे का नाम रखा जिसने उनकी हर मुसीबत में साथ खड़ा रहा.

यह भी पढ़ें- IND Vs AUS: शार्दुल और सुंदर की जोड़ी ने रचा इतिहास, बनाया ये शानदार रिकॉर्ड…

वहीं वाशिंगटन सुंदर (washington sundar) के बारे में आप एक बात जानकर चौंक जाएंगे. सुंदर (washington sundar) ने एक इंटरव्यू के दौरान खुलासा किया था कि, उन्हें सिर्फ एक कान से सुनाई देता है. ये बचपन से है. इसके बावजदू उन्होंने इस कमजोरी को कभी अपनी सफलता के रास्ते का रोड़ा बनने नहीं दिया.

वहीं आपको बता दें कि, वॉशिंगटन सुंदर और शार्दुल ठाकुर ने सातवें विकेट के लिए 123 रनों की पार्टनरशिप कर कपिल देव और मनोज प्रभाकर की जोड़ी का 30 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button