फ़िरोज़ाबाद : टूंडला विधानसभा उपचुनाव में बूथ संख्या 30 पर ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

टूंडला विधानसभा उपचुनाव से जुड़ी बड़ी खबर सामने आ रही है। टूंडला क्षेत्र के लाइनपार में रूधऊ मुस्तक़िल में बूथ संख्या 30 पर ग्रामीणों ने चुनाव का बहिष्कार किया है। 

फ़िरोज़ाबाद। टूंडला विधानसभा उपचुनाव से जुड़ी बड़ी खबर सामने आ रही है। टूंडला क्षेत्र के लाइनपार में रूधऊ मुस्तक़िल में बूथ संख्या 30 पर ग्रामीणों ने चुनाव का बहिष्कार किया है।

गांव में विकास कार्य ना होने के आरोप में ग्रामीणों ने बहिष्कार किया। बीडीओ टूंडला नरेश कुमार मय फ़ोर्स के ग्रामीणों को समझाने में जुटे है।  वहीँ उत्तर प्रदेश के कानपुर में घाटमपुर विधानसभा में हो रहे उपचुनाव का मतदान आज सुबह 7:00 बजे से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए मतदान शुरू हो गया है। मतदान केंद्र के अंदर मतदाताओं को भेजने से पहले कोविड प्रोटोकॉल के तहत व्यवस्था की गई है।  सभी मतदाताओं की थर्मल स्कैनिग के बाद ही मतदाता मतदाता केंद्र के अंदर जा पा रहे हैं।कानपुर के घाटमपुर में सुबह 9 बजे तक 5%  वोटिंग हुई।

बिहार चुनाव : उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने किया मतदान, कहा मेरी लोगों से अपील है कि घरों से निकलें और मतदान करें

घाटमपुर के सखी मतदान केंद्र में सुबह से महिला वोटरों की भीड़ जुट रही है। महिला वोटरों में पुरुषों से ज्यादा भारी उत्साह दिख रहा  है बूथ में सेनिटाइजर व सोशल डिस्टेंसिनग का ख्याल रखा जा रहा है।

बुजुर्ग और दिव्यांगजनों को पोस्टल बैलेट से मतदान करने की सुविधा रहेगी

यूपी की  सात  विधानसभा सीटों पर आज मतदान हो रहे है। इन सातों जिलों से जुड़े प्रदेश के अन्य जिलों की सीमाओं को सील करते हुए चौकसी भी बढ़ा दी गई है।  कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर निर्वाचन आयोग ने मतदान के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है।  इसके अनुसार प्रत्येक पोलिंग बूथ पर अधिकतम 1000 वोटर ही मतदान कर सकेंगे। इस वजह से हर मतदान केन्द्र पर सहायक पोलिंग बूथ भी बनाए गए हैं।  कोरोना संक्रमित, बुजुर्ग और दिव्यांगजनों को पोस्टल बैलेट से मतदान करने की सुविधा रहेगी।

बिहार के दूसरे चरण की वोटिंग के साथ देश के 11 राज्यों की 54 विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव हो रहा है. उत्तर प्रदेश की सात विधानसभा सीटों पर 88 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं. सूबे में बीजेपी, सपा, कांग्रेस और बसपा ने अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। उपचुनाव नतीजों का भले ही योगी सरकार पर कोई असर न पड़े, लेकिन यह 2022 के चुनाव का लिटमस टेस्ट माना जा रहा है।

रिपोर्ट-बृजेश सिंह राठौर फ़िरोज़ाबाद

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button