कानपुर में उत्तर प्रदेश का पहला बर्ड फ्लू, प्रशासन ने जू किया बंद

यूपी के कानपुर से बड़ी खबर सामने आयी है। यहाँ कानपुर ज़ू में मरे जंगली मुर्गों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गयी है। चिड़ियाघर में दो दिन में चार मुर्गों और दो तोतों की मौत के बाद बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई। कानपुर प्रशासन ने जू को बंद करा दिया है। 

यूपी के कानपुर से बड़ी खबर सामने आयी है। यहाँ कानपुर ज़ू में मरे जंगली मुर्गों में बर्ड फ्लू (bird flu ) की पुष्टि हो गयी है। चिड़ियाघर में दो दिन में चार मुर्गों और दो तोतों की मौत के बाद बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई। कानपुर प्रशासन ने जू को बंद करा दिया है। 

मृत जंगली मुर्गों की जांच रिपोर्ट भोपाल रिसर्च सेंटर से आई है। एच-5 स्ट्रेन यानी बर्ड फ्लू (bird flu ) का सबसे खतरनाक वायरस होने की पुष्टि हुई है। कानपुर चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू की तस्दीक हो गई है। बुधवार को चार पक्षियों की मौत के बाद भेजे गए सैंपल में बर्ड फ्लू संक्रमण पाया गया है। भोपाल की लैब से रिपोर्ट मिलने के बाद हड़कंप मच गया है।

ये भी पढ़ें – वाराणसी: भेलूपुर थाना क्षेत्र में बाइक सवार ने युवक को मारी गोली, मौके पर मौत

अगले आदेश तक चिड़ियाघर सील कर दिया गया है। देर रात डीएम की आपात बैठक में हाई अलर्ट घोषित किया गया है। चिड़ियाघर के बाड़ों में रखे गए सभी 932 पक्षियों की जिंदगी दांव पर है। खतरे को देखते हुए इन्हें मारने का आदेश दिया जा सकता है।

चिड़ियाघर के आस-पास के इलाके को रेड जोन घोषित

कानपुर चिड़ियाघर को बर्ड फ्लू वायरस मिलने के बाद सील कर दिया गया है। चार पक्षियों की मौत की जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू (bird flu )  की पुष्टि हुई है।  कानपुर कमिश्नर राजशेखर के आदेश पर चिड़ियाघर के आस-पास के इलाके को रेड जोन घोषित किया गया है. प्रशासन के साथ इलाके के निवासी भी अलर्ट हो गए हैं।

ये भी पढ़ें -बदायूं गैंगरेपः मुख्य आरोपी ने किए चौंकाने वाले खुलासे, कहा- मृतका से थे संबंध, यूं हुई मौत 

बता दें कि कानपुर चिड़ियाघर में दो दिनों में दस पक्षियों की मौत हुई थी। जिनमें चार की जांच के सैंपल भोला लेबोरेटरी भेजे गए थे।  जहां से रिपोर्ट में चारों में बर्ड फ्लू  के लक्षण पाए गए हैं।

दिल्ली को पक्षियों की हुई अकाल मृत्यु की जांच रिपोर्ट

यूपी के अलावा केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात में बर्ड फ्लू (bird flu )की पुष्टि हुई है। छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और दिल्ली को पक्षियों की हुई अकाल मृत्यु की जांच रिपोर्ट का इंतजार है।

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में आठ जनवरी 2021 की रात और 9 जनवरी 2021 की सुबह मुर्गियों और जंगली पक्षियों की असामान्य मृत्यु की खबरें आई हैं। इस बीच केरल के दो प्रभावित जिलों में पक्षियों को मारने का अभियान पूरा हो गया है और केरल राज्य में पोस्ट ऑपरेशनल सर्विलांस प्रोग्राम से जुड़े दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

 

 

 

 

 

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button