चुनाव में हार का सामना करने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को एक और तगड़ा झटका, सदन में…

चुनाव में हार का सामना करने के बाद अमेरिका (US) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को एक बार तगड़ा झटका लगा है।

चुनाव में हार का सामना करने के बाद अमेरिका (US) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को एक बार तगड़ा झटका लगा है। अमेरिका की कांग्रेस ने देश के रक्षा खर्च फंड यानी नेशनल डिफेंस अथॉराइजेशन एक्ट पर लगे राष्ट्रपित ट्रंप के वीटो को खारिज कर दिया है। ट्रंप के राष्ट्रपति काल में ऐसा पहली बार हुआ है।

हैरानी की बात यह है कि कुछ ही सप्ताह में राष्ट्रपति पद छोड़ने जा रहे डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के वीटो को खारिज करने में उनकी ही रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने प्रमुख भूमिका निभाई। नए साल के पहले दिन रिपब्लिकन पार्टी के नियंत्रण वाली सीनेट ने दुर्लभ सत्र आयोजित करते हुए इस मुद्दे पर चर्चा की।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर: आंदोलनकारी किसान ने की आत्महत्या, अब संगठनों ने किया ये ऐलान…

बता दें कि अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन हाउस ऑफ रेप्रेसेंटेटिव में इस पर पहले ही वोट किया जा चुका था। 740 अरब डॉलर के इस विधेयक के जरिए अगले एक साल तक अमेरिका की रक्षा नीति पर खर्चा किया जाना है। डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने इस विधेयक के कुछ प्रावधानों का विरोध किया था।

बीते बुधवार को नेशनल डिफेंस ऑथोराइजेशन एक्ट पर डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने वीटो किया था। हालांकि, उस दौरान राष्ट्रपति के सलाहकारों ने उन्हें ऐसा करने से बचने की सलाह दी थी।

ये भी पढ़ें – दलितों के मसीहा कहे जाने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का निधन, PM मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक

आपको बता दें कि चार साल के कार्यकाल में ट्रंप (Donald Trump) ने आठ विधेयकों पर वीटो किया, इसी वजह से वो विधेयक कानून नहीं बन सके, लेकिन साल के अंत में ट्रंप का दांव उलटा पड़ गया। संसद ने एकजुट होकर राष्ट्रपति का वीटो खारिज कर दिया। सीनेट ने वोटिंग कर 81-13 के बहुमत से ट्रंप का वीटो खारिज कर दिया। हैरानी की बात यह है कि ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने भी वीटो को रद्द करने के पक्ष में वोटिंग की।

देश की डिफेंस पॉलिसी को लेकर अमेरिकी संसद ने अगले साल के लिए 740 अरब डॉलर के बजट को मंजूरी दी थी। इसके कुछ प्रावधानों पर ट्रंप (Donald Trump) ने आपत्ति जताते हुए वीटो लगाया और बिल साइन करने से मना कर दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button