फिरोजाबाद: गाँव से बीमारी भगाने का ग्रामीणों का अनोखा तरीका

गाँव से बीमारी भगाने को ग्रामीणों की अनोखी पूजा,हवन पूजा कर काली माता और हनुमान जी के स्वरूप से खप्पर गाँव में आग लेकर घुमाते है .

गाँव से बीमारी भगाने को ग्रामीणों की अनोखी पूजा,हवन पूजा कर काली माता और हनुमान जी के स्वरूप से/ खप्पर/गाँव में आग लेकर घुमाते है ,ग्रामीण हर घर पर चढ़ाते है घी और तेल व गंधक के साथ अन्य सामिग्री,
ग्रामीणों का दावा बरसात में वायुमंडल में पैदा हुए तमाम बीमारीयों को हवन पूजा के धुएं से किया जाता है नष्ट,
वर्षों से चली आरही है ग्रामीणों की हर वर्ष अनोखी पूजा ।

फ़िरोज़ाबाद जिले के शिकोहाबाद थानां क्षेत्र में अजूबी पूजा ग्रामीण क्षेत्रों में वर्षात से पैदा विषाणु कीटाडू खत्म करने को ग्रामीणों विशेष आयोजन इस आयोजन में काफी संख्या में ग्रामीण एकत्रित होकर हवन यज्ञ करते मंत्रो का उच्चार होता है देशी आयुर्वेदिक लुवान गंधक सरसो का तेल रार गुग्गुल का आग में प्रयोग कर घर घर शुरू होता है विशेष कार्यक्रम देव स्थान से शुरू होकर फिर गांव की गलियों में युवाओं के जोश दिखाई देता है.

 

गांव डंडियामयी में आज वर्षात के विमारी को भगाने का देशी नुख्सा देखने मे आया मंदिर से शुरू हुआ पूजन कार्यक्रम वर्षों पुरानी परंपरा है ग्रामीण इसे काफी समय आदि काल से कर रहे है.

ग्रामीणों की माने तो वर्षात के मौसम में गली मोहल्लों में पानी से पशुओं में घुररक खुर पका मुह पका जैसे रोग जानवरों में पैदा हो जाते है जो नष्ट हो जाते है गांव का एक बलशाली व्यक्ति पहले नए घड़े के खपरे ले जाया जाता था लेकिन अब इशे बड़े बड़े झाबे पर दो व्यक्ति उठाते है इसमें एक पहलवान हनुमानजी जी के खप्पर को उठाता है तो दूसरा माता काली का, इन दोनों खप्परों को लेकर पूरे गांव में घुमाया जाता है घरों में घुसकर मनुष्यों के निवास से पशुओं के निवास तक ले जाया जाता है ताकि बीमारी जनित कीड़े किसी गली मोहल्ले घर मे न राह जाए आस्था और विश्वास के साथ ग्रामीण पूरी शिद्दत से विमारी भगा रहे है.

जनपद में जारी डेंगू बायरल बुखार का प्रकोप पूरे जिले में भयंकर कहर ढा रहा है आये दिन होती मौतों से परेशान ग्रामीण पुराने नुख्सा अजबाने को मजबूर अभी तक करौना से भयभीत जनमानस को अब डेंगू मलेरिया बुखार का डर शता रहा है जहाँ एक तरफ सरकार टीका ईजाद कर रही है तो नई नई बीमारी भी कई घरों के चिराग बुझा चुकी है तमाम नौनिहालों ने दम तोड़ दिया है घर घर बायरल से बीमारों की चारपाई बिछी है ऐसे ग्रामीण हॉस्पिटल पर तो पूरा विश्वास पर पुराने नुख्शो से बीमारी भगाने की उपाय ढूढ रहे है

इसे आस्था कहे या आत्म विश्वास जिले फैली बीमारी को अजूबी पूजा .

 

 

रिपोर्ट बृजेश राठौर फ़िरोज़ाबाद

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button