आजमगढ़ की बिजली व्यवस्था की खुली पोल जगह जगह पर अंडर ग्राउंड तार और बॉक्स खुले

शहर के ज्यादातर हिस्सों में लगे अंडरग्राउंड केबल बॉक्स या तो टूट चुके हैं अथवा जर्जर हो चुके हैं

आजमगढ़ शहर में सुव्यवस्थित बिजली की व्यवस्था को लेकर पिछली सपा सरकार में अंडर ग्राउंड केबल की व्यवस्था की गई थी ताकि तारों के जंजाल से मुक्ति मिले और अवैध कटिया कनेक्शन खत्म हो। लाइन लॉस काम हो जिससे अनवरत आपूर्ति की जा सके। लेकिन मेंटेनेंस के अभाव में यह अंडरग्राउंड केबल व्यवस्था खतरनाक रूप लेती जा रही है।

शहर के ज्यादातर हिस्सों में लगे अंडरग्राउंड केबल बॉक्स या तो टूट चुके हैं अथवा जर्जर हो चुके हैं या खुले में पड़े हुए हैं। जो किसी की भी जान के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। आए दिन पशुओं की यहां बिजली के तार से चपेट में आकर मौत हो जाती है। वर्ष 2014-15 में इस अंडरग्राउंड केबल की व्यवस्था हुई थी। तभी से कार्यदायी संस्था यहां कार्य देख रही थी। अब स्थिति और दयनीय होती जा रही है।

विद्युत वितरण खंड प्रथम के अधिशासी अभियंता अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि इन केबल बॉक्स के मेंटेनेंस के लिए एस्टीमेट तैयार करके मुख्यालय को भेजा गया है। बजट आने पर इस को दुरुस्त किया जा सकेगा। वहीं उन्होंने ओवरहेड केबिल की व्यवस्था फिर से नहीं होने की बात कही और कहा कि यह अंडरग्राउंड व्यवस्था अभी चल रही है। जहां सड़कों के चौड़ीकरण का कार्य हुआ है वहीं पर यह प्रभावित हुई है।

Back to top button