घर में रखी ये पांच चीजें कर सकती हैं आपको गरीब, भूल कर भी ना रखें

वास्तु शास्त्र के अनुसार नकारात्मक ऊर्जा आपको, आपके जीवन और समस्त गतिविधियों के लिए नुकसानदायक है. नकारात्मक ऊर्जा को घर से निकाले बाहर

दुनिया के हर व्यक्ति की कामना होती है कि उसके घर में सदैव सुख और समृद्धि बनी रहे. घर का वातावरण सकारात्मक ऊर्जा से भरा हो. वास्तु शास्त्र के अनुसार नकारात्मक ऊर्जा आपको, आपके जीवन और समस्त गतिविधियों के लिए नुकसानदायक है. अनजाने में लोग कुछ ऐसी भूल करते हैं, जिससे घर में नकारात्मक ऊर्जा हावी होने लगती है और धनहांनि की शुरुआत हो जाती है. घर में किसी भी तरह की नकारात्मक ऊर्जा नहीं होनी चाहिए. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की ऐसी पांच चीजें, जो नकारात्मक ऊर्जा देती हैं. इन्हें घर से निकाल देना ही बुद्धिमानी है. इनका घर में होना आपको कंगाल बना सकता है.

घर को वैसे भी साफ सुथरा रखना जरूरी है, लेकिन इस काम में अगर आप लापरवाही करेंगे तो यह आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। किसी भी घर में जाल और कबाड़ को नकारात्मक ऊर्जा का स्रोत माना जाता है। जिस घर में स्वच्छता रहती है उसी घर में माता लक्ष्मी का वास होता है। यदि आपके घर में कबाड़ है, भले ही वह खराब वस्तु हो जिसे आपने लंबे समय से मरम्मत के लिए रखा है, उसे जल्द से जल्द ठीक करवाएं या घर से बाहर निकाल दें। घर में कभी भी जाल न लगने दें।

झाड़ू को घर में छिपा कर रखें

हर घर में झाड़ू होती है। हालांकि झाड़ू को माता लक्ष्मी का प्रतीक भी माना जाता है। झाड़ू को घर में रखने की विधि भी वास्तु शास्त्र में बताई गई है। झाड़ू को हमेशा नजर से दूर रखना चाहिए। झाड़ू को सीधा नहीं रखना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार शाम के समय घर में कभी भी झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। झाड़ू को हमेशा घर के अंदर और बाहर रखें। घर के सदस्य जो वास्तु शास्त्र के इन उपायों का पालन नहीं करते हैं उन्हें आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

घर में कबूतर का घोंसला होता है अशुभ

आपने अक्सर घरों में कबूतरों को अपना घोंसला बनाते देखा होगा। वास्तु शास्त्र के अनुसार जिस घर में कबूतर का घोंसला होता है उस घर में दरिद्रता आती है। खासकर अगर किसी घर में कबूतर का अंडा फूट जाए तो यह निकट भविष्य में आर्थिक संकट के आने का सूचक माना जाता है। ऐसे में इस बात का ध्यान रखें कि आपके घर में कहीं भी कोई कबूतर अपना घोंसला न बना ले।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button