लखनऊ : आजीविका मिशन से बदल रहा महिलाओं का जीवन, महिला दिवस पर दिखा उत्साह

कभी केवल चूल्हे चौके तक खुद को सीमित रखने वाली महिलायें आज सक्षम बनकर न सिर्फ अपनी आमदनी, अपने परिवार की खुशहाली के लिए काम कर रही हैं

कभी केवल चूल्हे चौके तक खुद को सीमित रखने वाली महिलायें आज सक्षम बनकर न सिर्फ अपनी आमदनी, अपने परिवार की खुशहाली के लिए काम कर रही हैं, बल्कि पूरे समाज को एकजुटकर पैरों पर खड़ा कर रही हैं। स्वयं सहायता समूह के माध्यम से काम कर रही इन महिलाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के कुटीर और सेवा उद्योगों को बैंक से जोड़कर एक नए कार्यसंस्कृति के तहत प्रदेश का नव-निर्माण किया जा रहा है। इनके प्रयासों के परिणाम अब स्पष्ट दिखायी लगे हैं, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर नए भारत के निर्माण में जुटी इन महिलाओं का उत्साह कुछ इसी प्रकार का सन्देश देकर गया।

ये भी पढ़ें- बाराबंकी : 50 लाख कीमत के मादक पदार्थो के साथ दो तस्कर गिरफ्तार

स्वयं सेवा समूह से जुडी इन महिलाओं को लेकर उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की ब्लॉक मिशन प्रबंधन इकाई द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021 कार्यक्रम का आयोजन सिधौली विकास खंड कार्यालय के सभागार मे किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एडीओ आइएसबी राम लगन वर्मा द्वारा की गयी। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में समूह की महिलाओं ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में ब्लॉक मिशन प्रबंधक चारु लता ने ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस – 2021’ की थीम पर परिचर्चा करते हुए महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया। उन्होंने कहा कि आजीविका मिशन महिलाओं के जीवन में बड़े बदलाव का माध्यम बन रहा है। ब्लॉक मिशन प्रबंधक अफसर जहां ने पंचसूत्र के बारे में जानकारी दी और महिलाओं को उनके अधिकारों के लिए लड़ने के लिए प्रेरित किया। ब्लॉक मिशन प्रबंधक अजीत कुमार यादव के द्वारा महिलाओं को समूह से जुडी हुई जानकारियां दी गयीं।

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन का उददेश्य ग्रामीण गरीब परिवारों को देश की मुख्यधारा से जोड़ना और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिये उनकी गरीबी दूर करना है। भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय ने जून, 2011 में आजीविका-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) की शुरूआत की थी। इसका मुख्य उददेश्य गरीब ग्रामीणों, विशेषकर महिलाओं को सक्षम और प्रभावशाली संस्थागत मंच प्रदान कर उनकी आजीविका में निरंतर वद्धि करना, वित्तीय सेवाओं तक उनकी बेहतर और सरल तरीके से पहुंच बनाना और उनकी पारिवारिक आय को बढ़ाना है। इसके लिए मंत्रालय को विश्व बैंक से आर्थिक सहायता मिलती है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button