अमेरिका व चीन के बीच फिर देखने को मिला तनाव, बंद हुई इतनी कम्पनियां

अमेरिका और चीन के बीच लगातार तनाव बना हुआ है। वाशिंगटन और बीजिंग दोनों द्वारा उठाए गए कदमों को लेकर तनाव बढ़ रहा है।

अमेरिका (United States) और चीन के बीच लगातार तनाव बना हुआ है। वाशिंगटन और बीजिंग दोनों द्वारा उठाए गए कदमों को लेकर तनाव बढ़ रहा है। वहीं, अमेरिकी सरकार ने बुधवार को कई चीनी कंपनियों ​​बंद कर दिया। रॉयटर्स के अनुसार, अमेरिका (United States) ने कहा कि कंपनियां चीनी सैन्य क्वांटम कंप्यूटिंग प्रयासों को विकसित करने में मदद कर रही हैं।

चीनी सेना की मदद करने और सैन्य अनुप्रयोगों का समर्थन करने के लिए अमेरिकी मूल के सामान की मांग करने में उनकी कथित भूमिका के लिए आठ चीनी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया है। अमेरिकी (United States) वाणिज्य सचिव जीना रेमोंडो ने एक बयान में कहा कि कंपनियों को ब्लैकलिस्ट करने से देश की तकनीक को चीन और रूस के सैन्य विकास पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, पाकिस्तान के असुरक्षित परमाणु कार्यक्रम या बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को निलंबित कर दिया जाएगा। चीनी कंपनियों पर पहले भी इसी तरह के आरोप लगते रहे हैं।

इसे भी पढ़ें – समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव जनक्रांति पार्टी रैली लखनऊ में

वाशिंगटन में चीनी दूतावास ने फैसले का विरोध किया। दूतावास के प्रवक्ता लियू पेंग्यु ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका राष्ट्रीय सुरक्षा कैच-ऑल अवधारणा का उपयोग करता है और चीनी कंपनियों को हर संभव तरीके से नियंत्रित करने के लिए अपनी शक्ति का दुरुपयोग करता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका (United States) को गलत रास्ते पर जाने के बजाय चीन से मिलने की जरूरत है। विकास ऐसे समय में आया है जब दोनों देश ताइवान की स्थिति और व्यापार के मुद्दों पर आमने-सामने हैं।

कुल 27 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और उनके चीनी समकक्ष शी जिनपिंग के बीच हाल ही में एक आभासी बैठक के दौरान, दोनों नेताओं ने अन्य मुद्दों के साथ व्यापार पर चर्चा की। इस बीच, आठ चीनी कंपनियों को ब्लैक लिस्टेड करने के अलावा कई अन्य कंपनियों को भी ब्लैकलिस्ट किया गया है। सूची में कुल 27 नई कंपनियों को जोड़ा गया है। इसमें पाकिस्तान, जापान और सिंगापुर की कंपनियां भी शामिल हैं। अमेरिका ने कहा है कि वह चीन को प्रौद्योगिकी के जरिए उन्नत हथियार हासिल करने से रोकने के लिए कदम उठा रहा है। हालांकि अब विवाद के बढ़ने की संभावना भी बढ़ गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button