जाने किस देश में भारतीयों को अपनी सुरक्षा के लिए उठाने पड़े हथियार

दंगाई वहां पे लोगों के घर, दुकानों को लूट रहे हैं, शॉपिंग मॉल्स में तोड़फोड़ कर रहे हैं। जिसके चलते देश इस अफ्रीकी देश में फूड सप्लाई काफ़ी हद तक बाधित हो गई है।

पिछले कुछ दिनों से दक्षिण अफ्रीका के अलग-अलग हिस्सों से दंगों और तोड़फोड़ की खबरें लगातार न्यूज़ साइट्स पे छाई हुई है। अब इन दंगों का असर वहां पे मौजूद भारतीयों पे भी पड़ने लगा है। दंगाई अब वहां पे भारतीयों को भी निशाना बना रहे है। दक्षिण अफ्रीका में हो रही हिंसा अब इतनी ज्यादा बढ़ गयी है कि वहां पे अभी तक 70 लोग मारे जा चुके हैं।

source _ google

दंगाई वहां पे लोगों के घर, दुकानों को लूट रहे हैं, शॉपिंग मॉल्स में तोड़फोड़ कर रहे हैं। जिसके चलते देश इस अफ्रीकी देश में फूड सप्लाई काफ़ी हद तक बाधित हो गई है।

पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की गिरफ्तारी के बाद शुरू हुए देश में दंगे

source _ google

दक्षिण अफ्रीका में हो रहे दंगों के पीछे की वजह देश के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा कि गिरफ्तारी को बताया जा रहा है। भारतीयों पे हो रहे हमलों को लेकर दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने बताया कि जो लोग ये कर रहे है वो राजनीति या नस्लभेद से प्रेरित नहीं हैं। बल्कि वे क्रिमिनल हैं जिनका मकसद बस मौके का फायदा उठाकर लूटपाट करना है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने की दक्षिण अफ्रीका की विदेश मंत्री से बात

भारतीयों पे हो रहे हमलों को लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने समकक्ष नलेदी पंडोर से बात कि जिसके बाद उन्होंने ट्वीट करके बताया कि ‘दक्षिण अफ्रीका की विदेश मंत्री नलेदी पंडोर के साथ हुई बातचीत की सराहना करता हूं। उन्होंने आश्वासन दिया कि उनकी सरकार कानून-व्यवस्था को लागू करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। सामान्य स्थिति और शांति की जल्द बहाली सर्वोच्च प्राथमिकता है।’

source _ google

भारतीय डॉक्टर ने लिखा पत्र

दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों के साथ जो कुछ हो रहा है, उसको बताते हुए उन्होंने लिखा कि, ‘आज यह पत्र लिखते समय मुझे नहीं पता कि कल मैं जीवित रहूंगा या नहीं। मैं एक युवा भारतीय हूं, जिसके पूर्वज भारत से यहां आकर बस गए थे। मैं डरबन में रहता हूं और पेशे से डॉक्टर हूं। यहां जारी हिंसा में भारतीयों को भी बड़े पैमाने पर निशाना बनाया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button