शामली : आंदोलन के बाद ग्रामीणों की बीजेपी नेताओं को धमकी

26 जनवरी को देश में आंदोलन की आड़ में हुए बवाल ने अब नया रूप ले लिया है। जिसमें गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन कर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की आंखों में आंसू भी आ गए थे।

26 जनवरी को देश में आंदोलन की आड़ में हुए बवाल ने अब नया रूप ले लिया है। जिसमें गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन कर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की आंखों में आंसू भी आ गए थे। उसी के चलते अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसानों ने bjp के खिलाफ अपना बिगुल बजा दिया है। जिसके चलते अब जनपद शामली के गांव में bjp नेताओं को गाँव मे घुसने के लिए पाबंदी लगाते हुए पोस्टर चस्पा कर दिए गए हैं। वही गांव में कोई भी बीजेपी नेता अगर आने की गलती करता है, तो गाँव वाले उसके साथ जो करेंगे उसका वह खुद जिम्मेदार होगा। वहीं आने वाली 5 फरवरी को गांव भैंसवाल में महापंचायत का आयोजन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन तेज होते देख पुलिस ने NH-24 हाईवे को किया बंद

दरअसल आपको बता दें कि जनपद शामली के किसानों ने bjp का खुलकर विरोध करना शुरू करता है। जिसके चलते गांव कसेरवा कलां और गांव पिंडारा के ग्रामीणों ने गांव में बीजेपी के किसी भी नेता के प्रवेश पर पूर्णतः पाबंदी लगा दी है। अब पश्चिम उत्तर प्रदेश का किसान एकजुट हो गया है। वही यह एकजुटता भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की आंखों में आंसू आने के बाद देखने को मिली है। आपको बता दें कि 26 जनवरी को दिल्ली में किसानों के आंदोलन ने एक नया रूप ले लिया था। जिसके बाद उत्तर प्रदेश और केंद्र दोनों सरकार हरकत में गई थी। वही गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन दे रहे बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को सरकार ने प्रताड़ित करने का काम किया था। जिसके बाद राकेश टिकैत ने आत्मदाह की चेतावनी भी दे डाली थी। वही राकेश की आंखों में आसूं आने के बाद पश्चिम उत्तर प्रदेश के किसानो में उबाल की स्थिति पैदा हो गयी है। जिसके चलते अब जनपद शामली का किसान बीजेपी के खिलाफ हो गया है। अब यहां के लोग bjp का खुलकर विरोध करने लगे है। वही बीजेपी के खिलाफ जनपद शामली के गांव कसेरवा कलां ,भैंसवाल और पिंडारा गाँव के ग्रामीणों ने bjp के प्रवेश पर पाबंदी वाले पोस्टर चस्पा कर दिये है। अब देखना होगा कि bjp सरकार के नुमाइंदे किस तरह से किसानों का विरोध झेलते हुए गांव में प्रवेश करते हैं। या फिर यूपी डर को भगाने वाली सरकार खुद डर के साये में जीने को मजबूर होगी। क्योंकि गाँव वालों ने पोस्टर पर साफ लिख दिया है कि जो भी bjp का नेता गांव में आएगा उसके साथ जो भी होगा, उसका वह स्वयं जिम्मेदार होगा। अब देखा होगा कि कही उत्तर प्रदेश में दुबारा से भय का माहौल पैदा तो नही हो रहा। कही फिर से यूपी से पलायन की स्थिति तो पैदा नही की जा रही।

Report- Vijay pandit

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button