सहारनपुर : निर्माण कार्यों की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं- डीएम

सहारनपुर जिलाधिकारी अखिलेश ने जनपद में निर्माण कार्यों में लगी कार्यदायी संस्थाओं निर्देश दिए है कि निर्माण कार्यों की गुणवतत्ता से कोई समझौता नहीं होगा।

सहारनपुर जिलाधिकारी अखिलेश ने जनपद में निर्माण कार्यों में लगी कार्यदायी संस्थाओं निर्देश दिए है कि निर्माण कार्यों की गुणवतत्ता से कोई समझौता नहीं होगा। उन्होंने कहा कि मानक के अनुरूप कार्य नही करने वाली कार्यदायी संस्थाओं को काली सूची में डाला जायेंगा। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि सभी निर्माण कार्यों की प्रत्येक स्तर पर जिलास्तरीय टाॅस्क फोर्स गुणवत्ता एवं मानकों की जांच करायी जाए। उन्होने कहा कि सभी कार्यदायी संस्था नींव से लेकर लैण्टर तक प्रत्येक महत्वपूर्ण स्तर पर कार्य होने से पूर्व संबंधित विभाग और मुख्य विकास अधिकारी को तिथिवार जानकारी उपलब्ध करायेंगे। उन्होने कहा कि आवासीय भवनों, विद्यालयों और सेतुओं के निर्माण का शत प्रतिशत निरीक्षण जिलास्तरीय टाॅस्क फोर्स से कराया जायेंगा।

ये भी पढ़ें- सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान, समाजवादी सरकार बनने पर बड़े पैमाने पर नौकरियों में की जाएगी भर्ती

अखिलेश सिंह आज सर्किट हाऊस सभागार में निर्माण कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्हेाने कहा कि मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता वाली योजनाओं में किसी प्रकार की अनदेखी बर्दाश्त नहीं होगी। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणाओं वाले कार्यों को मुख्य विकास अधिकारी खुद मौके पर जाकर देंखे कि कार्य की प्रगति कितनी हुई और कार्य गुणवत्तापूर्ण हुआ है अथवा नहीं। उन्होने लोक निर्माण विभाग तथा जिला पंचायत को निर्देश दिये कि अब धीरे-धीरे मौसम अनुकूल हो रहा है तो रूके हुए कार्यों में तेजी लाई जाए। उन्होने जल निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया जहां पर भी शिवर लाईन के लिए खुदाई की गयी है उसे जब तक पूर्व स्थिति में नही किया जाएगा तब तक अन्तिम भुगतान नही होगा। उन्होने कहा आवसीय भवनों तथा सेतुओं की जांच तृतीय पक्ष यानि आई0आई0टी0 रूडकी, कानपुर जैसी अन्य प्रतिष्ठित संस्थाओं से कराई जानी चाहिए।

जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि किसी भी कार्यदायी संस्था को पैसा तभी दिया जाये जब उसके द्वारा किया गया कार्य समयबद्ध और गुणवत्तापूर्ण हो। यदि कोई कार्यदायी संस्था समय से कार्य नही कर रही है तो उसके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही करते हुए अन्य किसी संस्था को कार्य दिया जाये। उन्होने कहा कि सभी अधिकारी और कार्यदायी संस्था अपने-अपने स्तर से अपने-अपने दायित्वों का भली प्रकार से निर्वहन करें। उन्होने कहा निर्माण कार्यों में लापरवाही और मानक के अनुरूप सामग्री का इस्तेमाल न करने वालों को बख्शा नही जायेगा। उन्होने कहा कि यदि कोई निर्माण कार्य पूर्ण हो गया है तो उसकी गुणवत्ता का प्रमाण पत्र प्राप्त कर ही उसे हस्तगित कराएं।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रणय सिंह, जिला विकास अधिकारी मंशाराम यादव, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी अमित कुमार सहित सभी कार्यदायी संस्थाओं के पदाधिकारी मौजूद थे।

 

रिपोर्ट-राहुल भारद्वाज

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button