लाल किले हिंसा के आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में खोले कई राज़, बताया कैसे की गई थी प्लानिंग

26 जनवरी को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में किसानों (Farmers) की ट्रैक्टर रैली (Tractor rally) के दौरान हुई हिंसा के मुख्य आरोपियों में से एक और एक लाख के इनामी अपराधी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को पुलिस ने...

26 जनवरी को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में किसानों (Farmers) की ट्रैक्टर रैली (Tractor rally) के दौरान हुई हिंसा के मुख्य आरोपियों में से एक और एक लाख के इनामी अपराधी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। करीब 15 दिन से फरार चल रहे इनामी अपराधी दीप सिद्धू को मंगलवार की सुबह दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि आरोपी की पंजाब की जिरकपुर नाम के इलाके से गिरफ्तारी की गई है। पुलिस की पूछताछ में दीप सिद्धू ने कई खुलासे किए हैं।

पूछताछ के दौरान आरोपी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) ने कहा कि हालांकि, दीप सिद्धू ने साफ किया कि उसका जुड़ाव किसी कट्टरपंथी संगठन से नहीं है, लेकिन वो तोड़फोड़ वाली विचारधारा में यकीन करता है।

ये भी पढ़ें- सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान, समाजवादी सरकार बनने पर बड़े पैमाने पर नौकरियों में की जाएगी भर्ती

दीप (Deep Sidhu) ने पुलिस से कहा कि लॉकडाउन के दौरान और बाद में दीप सिद्धू को कोई काम नहीं मिला था और अगस्त में जब किसान आंदोलन पंजाब में शुरू हुआ, तो वह इसके प्रति आकर्षित हो गया था। उसे शक था कि सरकार के साथ बातचीत में और दिल्ली पुलिस के साथ ट्रैक्टर रैली के दौरान किसान नेता नरम हो रहे थे।

पूछताछ के दौरान उसने (Deep Sidhu) बताया कि वह किसानों के साथ 28 नवंबर को दिल्ली पहुंचा था। उसने कहा कि जब वह विरोध स्थलों पर जाता था तो वहां बड़ी संख्या में युवा आते थे। गणतंत्र दिवस परेड से कुछ दिन पहले सिद्धू ने अपने समर्थकों के साथ निर्धारित मार्ग को तोड़ने का फैसला किया। दीप सिद्धू ने तब अपने समर्थकों से कहा था कि वे वॉलंटियर के जैकेट चुराएं।

ये भी पढ़ें- …तो इसलिए सदन में फूट-फूट कर रोने लगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें वीडियों

बताया गया कि एक्टर दीप सिद्धू (Deep Sidhu) ने पहले ही साजिश रची थी कि वह लाल किला और यदि संभव हो तो इंडिया गेट तक पहुंचने की कोशिश करेगा। बताया जा रहा है कि तरनतारन का मूल निवासी जुगराज गुरुद्वारों में झंडे फहराता था। मामले की जांच में यह भी खुलासा हुआ कि फरार आरोपी जुगराज सिंह को विशेष रूप से धार्मिक झंडा फहराने के लिए लाया गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button