प्रयागराज : राष्ट्रपति ने किया 640 करोड रुपए की परियोजनाओं शिलान्यास

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एयरपोर्ट पहुंचकर राष्ट्रपति का स्वागत किया

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संगम नगरी प्रयागराज पहुंचे। राष्ट्रपति का विमान दिल्ली से उड़ान भरकर प्रयागराज पहुंचा उनके स्वागत के लिए उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने एयरपोर्ट पहुंचकर महामहिम का स्वागत किया l इसके बाद उन्होंने प्रयागराज में उन्होंने ६४० करोड़ रूपए की परियोजनाओं का शिलान्यास किया इसके साथ ही नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की आधार शिला भी रखी

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एनवी रमना,कानून मंत्री किरण रिजिजू, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, सांसद रीता बहुगुणा जोशी, शहर की महापौर अभिलाषा गुप्ता, विधायक नीलम करवरिया समेत आदि पदाधिकारी मौजूद रहे l

इससे पहले शनिवार की सुबह करीब 10:30 बजे राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश के कानून मंत्री बृजेश पाठक राजकीय विमान से बमरौली एयरपोर्ट पहुंच गए थे,लगभग इसी समय सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनवी रमना भी विमान से पहुंचे,इसके बाद फिर सभी लोग वायुसेना के 3 हेलीकॉप्टर से पोलो ग्राउंड पहुंचे मर्सिडीज बेंच एस क्लास कार में हाई कोर्ट गए l पोलो ग्राउंड पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, महापौर अभिलाषा गुप्ता, सांसद रीता बहुगुणा जोशी समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे l समारोह स्थल पर दीप प्रज्वलित कर राष्ट्रपति ने उद्घाटन किया l हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता एबी सरन के तैल चित्र का राष्ट्रपति ने अनावरण किया l

इस दौरान उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के साथ अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे,वहीं राष्ट्रपति ने कुल 640.37 करोड रुपए की अलग-अलग परियोजनाओं का शिलान्यास किया राष्ट्रपति ने नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता चेंबर की बिल्डिंग और मल्टी लेवल पार्किंग की आधारशिला भी रखी इस दौरान सीजीआई एनवी रामना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू समेत बड़ी हस्तियां शामिल रहे l इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि प्रयाग की धरती की पहचान शिक्षा के केंद्र के रूप में रही है,कहां कि न्यायपालिका में महिलाओं की भागीदारी बढ़े,महिलाओं में न्याय की समझ अधिकतम होती है उनमें सब को न्याय देने की प्रवृत्ति सबसे ज्यादा होती है l एक महिला ससुराल माईका पति और पुत्र में एक साथ समन्वय बनाती है l

रिपोर्ट – प्रयागराज से नितिन द्विवेदी , द यूपी खबर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button