प्रयागराज: मौनी अमावस्या पर संगम में प्रियंका गांधी ने लगाई डुबकी, बोलीं- मैंने यहां मन्नत…

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) आज मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) के दिन संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) पहुंची, जहां उन्होंने संगम में...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) आज मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) के दिन संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) पहुंची, जहां उन्होंने संगम में आस्था की डुबकी लगाई है। इस अवसर पर प्रयागराज पहुंचकर प्रियंका गांधी वाड्रा संगम में स्नान करने के बाद शंकराचार्य से उनके मंदिर मिलने गईं। बता दें कि इससे पहले उन्होंने ऐतिहासिक आनंद भवन का भी दौरा किया था।

आपको बता दें कि गुरुवार को एयरपोर्ट पर ही प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) के पहुंचते ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। इसके बाद एयरपोर्ट से प्रियंका गांधी आनंद भवन पहुंची। प्रियंका गांधी के दोनों बच्चे भी साथ में मौजूद रहे। प्रियंका गांधी वाड्रा जैसे ही आनंद भवन पहुंचीं, पहले से मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ता प्रियंका गांधी जिंदाबाद के नारे लगाते हुए उनके काफिले के सामने आ गएl  इसके बाद प्रियंका आनंद भवन के अंदर चली गईं।

ये भी पढ़ें- अजब-गजब: मंदिर में प्रवेश से पहले क्यों बजाई जाती है घंटी? मान्यताओं से लेकर वैज्ञानिक कारण जानकर आप भी रह जाएंगे दंग

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि गांधी परिवार का प्रयागराज से ऐतिहासिक नाता है, जिस कारण से आज मौनी अमावस्या स्नान करने प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) आई हैं और गंगा मैया का आशीर्वाद लेने के बाद 2022 चुनाव का आगाज भी करने की संभावना है। प्रियंका वाड्रा आनंद भवन से निकलने के बाद शंकराचार्य स्वरूपानंद के आश्रम गयीं। उसके बाद संगम स्नान किया।  इसके बाद प्रियंका वाड्रा ने मिंटो पार्क स्थित मनकामेश्वर मंदिर में शंकराचार्य से मिलने मंदिर में गई और वहां मंदिर में जाकर पूजा पाठ की और शंकराचार्य से कुछ देर वार्ता भी की।

इस मौके पर प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) ने कहा कि मेरे परिवार का शंकराचार्य से काफी पुराना रिश्ता रहा है, जब मेरे पिताजी 1990 में चुनाव हारे थे तो शंकराचार्य ने ही यहां पर हमारे घर में पूजा कराया था और मैं जब भी यहां आती हूं तो इनसे जरूर मिलती हूं। इनसे मिलकर मुझे बहुत अच्छा लगा और मैंने इनसे यहां पर कुछ मन्नत भी मांगी है। हालांकि, पत्रकारों के सवाल पूछने पर मन्नत के बारे में प्रियंका वाड्रा ने अपना निजी मामला बताया और कहा कि फिलहाल ये तो मेरे दिल में है, नहीं बोल सकती।

ये भी पढ़ें- आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ डायबिटीज कंट्रोल करता है पिस्ता

कुछ देर मंदिर में रुकने के बाद प्रियंका वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) फिर मंदिर से बाहर निकलकर दिल्ली के लिए रवाना हो गईं और जाते-जाते प्रियंका ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं और वहां मौजूद स्थानीय लोगों का अभिवादन और अभिनंदन किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button