‘मुंगेर हिंसा’ के बाद ‘मिया म्यूजियम’ पर घमासान, जानें पूरा मामला 

मुसलमानों की संस्कृति और विरासत को दिखाने के लिए बनाई जाने वाली 'मिया म्यूजियम' को लेकर सियायत तेज हो गई है।

असम के गुवाहाटी में मुसलमानों की संस्कृति और विरासत को दिखाने के लिए बनाई जाने वाली ‘मिया म्यूजियम’ को लेकर सियायत तेज हो गई है। पहले मंजूरी फिर खारिज होने के बाद जुबानी जंग परवान चढ़ रही है। जो अब असम से निकलकर पूरे देश में मुद्दा बन रही है। बता दें राज्य में ‘मिया म्यूजियम’ बनाये जाने को लेकर पहले तो 16 सदस्यीय सरकारी पैनल ने मंजूरी दे दी, फिर बाद में स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया। खास बात यह रही कि इन 16 सदस्यों में 6 बीजेपी विधायक थे।

क्या है पूरा मामला

बताते चलें कि बाघबर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक शेरमान अली अहमद ने म्यूजियम के डायरेक्टर को पत्र लिखकर गुवाहाटी में श्रीमंत शंकरादेवा कलाक्षेत्र में म्यूजियम बनाने की मांग रखी। श्रीमंत शंकरादेवा कलाक्षेत्र एक ऐसा केंद्र है, जहां राज्य की संस्कृति और विरासत को सहेजकर रखा जाता है। कांग्रेस विधायक के इस प्रस्ताव को 16 विधायकों का साथ मिला, जिसमें 6 बीजेपी विधायक थे।

स्वास्थ्य मंत्री ने किया खारिज

इस प्रस्ताव को राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने खारिज कर दिया। उनका मानना है कि ‘चार चापोरी’ के लोगों की कोई अलग कला एवं संस्कृति नहीं है। यहां रहने वाले ज्यादातर लोग प्रवासी हैं, जो बांग्लादेश से आए हैं। कलाक्षेत्र असम की कला और संस्कृति का केंद्र है, हम वहां किसी प्रकार के बदलाव को मंजूरी नहीं देंगे।

बंद होंगे मदरसे

बता दें असम में कुछ महीनों बाद चुनाव होने हैं। ऐसे में ‘मिया म्यूजियम’ का मुद्दा जोर पकड़ रहा है। आरोप है कि हेमंत बिस्व मामले को तूल देने के लिए ये सब कर रहे हैं। गौरतलब है कि हेमंत बिस्व ने हाल ही में यह भी ऐलान किया था कि असम सरकार, सरकार द्वारा चलाए जा रहे मदरसों को नवम्बर महीने तक बंद करा देगी। आम स्कूलों की तरह उनका भी पुनर्गठन होगा।

घिर सकती है NDA

हालांकि ऐसे में जब देश के एक बड़े राज्य बिहार में चुनाव चल रहे हैं, ऐसे में ‘मिया म्यूजियम’ का मुद्दा गरमाने से बीजेपी को नुकसान भी हो सकता है। वर्तमान में बिहार में ‘मुंगेर हिंसा’ को लेकर पहले से NDA को विपक्ष घेर रहा है। ऐसे में NDA को घेरने के लिए एक और मुद्दा मिल सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button