बिहार : लालू के घर के विवाद पर चौसर बना विधानसभा चुनाव, जदयू का मास्टर स्ट्रोक

बिहार में अक्तूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में सियासी पार्टियों ने चुनाव की तैयारियों को तेज कर दिया है। वहीं, सूबे के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव हसनपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

बिहार में अक्तूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव (Assembly elections ) होने वाले हैं। ऐसे में सियासी पार्टियों ने चुनाव की तैयारियों को तेज कर दिया है। वहीं, सूबे के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव हसनपुर विधानसभा सीट (Hasanpur assembly seat) से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। दूसरी तरफ, जेडीयू इस सीट पर तेज प्रताप के खिलाफ उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय को मैदान में उतार सकती है।

2015 के विधानसभा चुनाव में राजकुमार राय जेडीयू और आरजेडी के संयुक्त उम्मीदवार थे

राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा तेज हो गई है कि जेडीयू इस सीट से तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय को टिकट दे सकती है। हसनपुर सीट अभी जेडीयू के कब्जे में हैं। यहां से राजकुमार राय जेडीयू के विधायक हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में राजकुमार राय जेडीयू और आरजेडी के संयुक्त उम्मीदवार थे।

‘तेज’ देख तेज प्रताप ने इस सीट को ओके कर दिया

गौरतलब है कि तेज प्रताप के ससुर चंद्रिका राय पहले ही जेडीयू में शामिल हो गए हैं। अगर ऐश्वर्या यहां से मैदान में उतरती हैं, तो मुकाबला काफी दिलचस्प हो जाएगा। स्थानीय स्तर पर कयास यह लगाए जा रहे हैं कि राजकुमार राय को पार्टी इस बार किसी दूसरे सीट से चुनाव लड़ा सकती है या फिर विधान परिषद भेज सकती है। हालांकि अभी तक जेडीयू की तरफ से आधिकारिक रूप से ऐसा कोई बयान नहीं आया है। दरअसल, तेज प्रताप यादव दो दिवसीय हसनपुर दौरे पर थे। दो दिनों तक इस विधानसभा क्षेत्र में उन्होंने कई रोड शो किए। हसनपुर में रोड शो के दौरान लालटेन की लौ ‘तेज’ देख तेज प्रताप ने इस सीट को ओके कर दिया।

महुआ विधानसभा सीट से आरजेडी के दूसरे दावेदारों ने तैयारी शुरू

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने एलान कर दिया कि वह हसनपुर विधानसभा सीट (Hasanpur assembly seat.) से ही चुनाव लड़ेंगे। तेज प्रताप एक सुरक्षित सीट की तलाश कर रहे थे। हसनपुर यादव बहुल क्षेत्र है। वहीं, महुआ विधानसभा सीट से आरजेडी के दूसरे दावेदारों ने तैयारी शुरू कर दी है। तेज प्रताप यादव पिछले विधानसभा चुनाव में वैशाली जिले की महुआ सीट से जीते थे।

सात करोड़ मतदाता करेंगे मताधिकार का प्रयोग

29 नवंबर को बिहार विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। चुनाव आयुक्त ने कहा कि इस बार मतदान केंद्रों की संख्या और मैनपावर को बढ़ाया गया है। बिहार में 2020 के चुनाव में सात करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। इसमें महिला मतदाताओं की संख्या तीन करोड़ से अधिक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button