जानिये बजट सत्र में किसान आंदोलन पर पीएम मोदी ने क्या कहा…!

संसद में बजट सत्र को लेकर शनिवार को हुई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन को लेकर बड़ी बात कही है।

संसद में बजट सत्र को लेकर शनिवार को हुई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन को लेकर बड़ी बात कही है। प्रधानमंत्री मोदी ने सभी पार्टी के नेताओं से कहा कि सरकार किसानों से बातचीत को हमेशा तैयार है। सरकार और किसानों के बीच बातचीत का रास्ता हमेशा खुला है।

पीएम मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि मैं नरेंद्र सिंह तोमर की बात दोहराना चाहूंगा। भले ही सरकार और किसान आम सहमति पर नहीं पहुंचे हैं, लेकिन हम किसानों के सामने विकल्प रख रहे हैं, जिस पर वो चर्चा करें। पीएम ने कहा कि किसानों और मेरे बीच बस एक कॉल की दूरी है।

यह भी पढ़ें- महात्मा गांधी की 73वीं पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित इन राजनेताओं ने किया नमन

इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है और इस चर्चा में सभी विषयों पर वार्ता होगी, जिसमें सभी पार्टियों को बोलने का मौका मिलेगा। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की ओर से किसानों को दिया गया विकल्प अभी भी है।

इस दौरान सभी विपक्षी दलों को सरकार की तरफ से आश्वस्त किया गया है कि सरकार कृषि सम्बंधित कानूनों समेत सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। बता दें कि इससे पहले बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति के अभिभाषण का 20 विपक्षी पार्टियों ने बहिष्कार किया था, इसलिए सरकार की कोशिश है कि बजट सत्र में कोई हंगामा न हो।

यह भी पढ़ें- गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे RLD नेता जयंत चौधरी, बोले- सरकार को लगता है कि वे किसानों को कुचल देंगे, लेकिन…

इस सर्वदलीय बैठक में बजट सत्र सुचारु रूप से चले और राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा में सभी विपक्षी दल शामिल होने के मुद्दे पर भी चर्चा की गई। इस बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी, संसदीय कार्यराज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल और वी. मुरलीधरन शामिल हुए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button