पदम श्री अवार्ड जैविक खेती किसान कृषि बिल का समर्थन

कृषि बिल को लेकर पंजाब ,हरियाणा और यूपी के किसान दिल्ली बॉर्डर पर धरने प्रदर्शन पर कर रहे हैं तो वहीं उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में जैविक की खेती करने वाले किसान कृषि बिल का समर्थन कर रहे हैं।

Farmer: कृषि बिल को लेकर पंजाब ,हरियाणा और यूपी के किसान दिल्ली बॉर्डर पर धरने प्रदर्शन पर कर रहे हैं तो वहीं उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में जैविक की खेती करने वाले किसान कृषि बिल का समर्थन कर रहे हैं। जैविक की खेती करने वाले भरत भूषण त्यागी पदम श्री अवार्ड से भी 2019 में भारत सरकार द्वारा सम्मानित किए गए थे। उन्होंने जैविक खेती पर पीएचडी भी की है।

भरत भूषण त्यागी को मोदी सरकार ने पदम श्री अवार्ड से 2019 में नवाजा था

बुलंदशहर के स्याना क्षेत्र के गांव बददा हमीदपुर में रहकर जैविक की खेती करते है। भरत भूषण त्यागी को मोदी सरकार ने पदम श्री अवार्ड से 2019 में नवाजा था आपको बता दे कि भरत भूषण त्यागी अपने फार्म पर जैविक की अनेक प्रकार की खेती करते है जैविक की खेती में धनिया, हल्दी, गेंहू गन्ना,सम्पूर्ण घास, हींग कृष्णा फल, स्टीविया,सहजन, कालमेघ, सतावर, नीबू, चार तरह की तुलसी जैसी कई अन्य फसल एक सीजन में करते हैं।

ये भी पढ़ें – Shocking : महिला ने ऐसे बच्चे को दिया जन्म, जिसने भी देखा वो रह गया दंग

वही अपने यहां पर आम फसल से हटकर जड़ी बूटी और तरह-तरह की खेती करते हैं जिनकी दवाइयां बनती हैं और जिनसे दोगुनी आमदनी भी होती है और लोगों को रोजगार भी मिलता है वही भारत भूषण किसान ने बताया कि मोदी सरकार जो कि कृषि बिल लेकर आई है वह बिल्कुल ठीक है और मैं उसका समर्थन करता हूं।

मगर बिल में जो थोड़ी बहुत कमी है वह संशोधन हो सकती हैं मगर जो किसान धरने प्रदर्शन पर दिल्ली बॉर्डर पर बैठे हैं वह बातचीत से भी उसका हल निकाल सकते हैं मैं अपनी खेती से 2 गुना कमाता हूं और बिचौलिया को अपने पास तक नहीं आने देता।

बाइट- भरत भूषण त्यागी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button