एक हजार वाला ऑक्सीजन सिलिंडर का रेग्युलेटर 10 हजार में जा रहा था बेचा, पुलिस ने छापेमारी करके संचालक को पकड़ा

उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर में जब मरीज से लेकर तीमारदार ऑक्सीजन, बेड और रेमडिसिविर इंजेक्शन के लिए हलाकान हैं।

उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर में जब मरीज से लेकर तीमारदार ऑक्सीजन, बेड और रेमडिसिविर इंजेक्शन के लिए हलाकान हैं। ऐसे में कुछ स्वास्थ्य कर्मी और मेडिकल स्टोर चलाने वाले कालाबाजारी कर आपदा को अवसर बनाने में जुटे हुये हैं। ऐसा ही एक मामला सुल्तानपुर में प्रकाश में आया है।

जहां पुलिस ने एक मेडिकल एजेंसी के संचालक समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है़। आरोप है़ कि, ये सभी एक हजार में मिलने वाले ऑक्सीजन सिलिंडर रेग्युलेटर को 10 हजार में बेंच रहे थे।

जानकारी के अनुसार, एसडीएम गौरीगंज संजीव कुमार मौर्य शनिवार को आवश्यक दवाओं तथा अन्य उपकरणों की कालाबाजारी को लेकर अमेठी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गौरीगंज के सामने शैलेश मेडिकल स्टोर पर छापेमारी किया। छापेमारी के दौरान उन्होंने पाया कि शैलेश मेडिकल स्टोर द्वारा मरीजों से ऑक्सीजन रेगुलेटर के 7 से 10 हजार रुपये लेकर सुल्तानपुर के ओम एजेंसी के माध्यम से बेचा जा रहा है।

जबकि ऑक्सीजन रेगुलेटर की कीमत लगभग ₹1000 है। इस संबंध में उन्होंने बताया कि सीओ सुल्तानपुर से संपर्क कर ओम एजेंसी सुलतानपुर पर छापेमारी कराई गई। पुलिस छापेमारी में ओम एजेंसी पर ऑक्सीजन रेग्युलेटर बेचते पकड़ा गया। जिसके लिए सुल्तानपुर कोतवाली में ओम एजेंसी के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कराया गया है। इस केस में शैलेश मेडिकल स्टोर का नाम भी सम्मिलित है।

एसडीएम ने बताया कि इस प्रकरण को लेकर शैलेश मेडिकल स्टोर सहित अन्य मेडिकल स्टोर पर भी जांच की जा रही है। दोषी पाए जाने वाले सभी व्यक्तियों के विरुद्ध विधिक कार्यवाही की जाएगी।

Report-hansraj singh

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button