नरेश टिकैत- किसानों को कभी खालिस्तानी तो कभी पाकिस्तानी, कभी आतंकवादी तो कभी जमाती….

किसान की इतनी मज़ाक कभी नहीं बनी। किसानों को कभी खालिस्तानी तो कभी पाकिस्तानी, कभी आतंकवादी तो कभी जमाती के नामों से नवाज़ा गया। किसानों के आंदोलन को सरकार ने बेहद हल्के में लिया था।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) बरेली के बहेड़ी पहुँचे। जहां उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए सरकार पर जम कर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि किसान को सरकार ने एक मज़ाक बनाकर रख दिया।

किसान का इतना मजाक कभी नहीं बना। किसानों को कभी खालिस्तानी तो कभी पाकिस्तानी, कभी आतंकवादी तो कभी जमाती के नामों से नवाज़ा गया। किसानों के आंदोलन को सरकार ने बेहद हल्के में लिया था।उन्होंने जो सोचा था,उसका उल्टा हुआ। साथ ही उन्होंने मीडिया के एक वर्ग की सोच पर भी अफसोस जताया।

किसान नेताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait)  आज रात को बरेली के बहेड़ी में ढाका फार्म पर काफिले के साथ पहुँचे। यहाँ किसान नेताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया ।

यही पर उन्होंने मीडिया से बात करते हुए बताया कि सरकार हमारे किसान आंदोलन को बिखेरना चाहती है मगर हम किसान लोग जब तक आंदोलन जारी रखेंगे जब तक केंद्र सरकार अपने तीनो काले कानून वापस नही ले लेती है ।

लड़का पन्द्रह मिनट तक वही रहा और दिल्ली पुलिस खड़े होकर सिर्फ तमाशा देख रही थी…

वही  26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले पर हुई हिंसा को लेकर बोले कि यह सब करा धरा सरकार का क्योंकि दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के नियंत्रण में आती है दिल्ली देश की राजधानी है ।

वहां चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात रहती है लेकिन हम किसानों को बदनाम करने के लिए वहाँ एक लड़का आया और लाल किले पर झंडा फहराया दिया उसके बाद वो लड़का पन्द्रह मिनट तक वही रहा और दिल्ली पुलिस खड़े होकर सिर्फ तमाशा देख रही थी ।

वही उन्होंने आंदोलन के चलते लोगो को हो रही परेशानी पर खेद जताया और कहा कि यह आंदोलन हम लोग देश की जनता के लिए कर रहे है क्योंकि केंद्र सरकार बड़े उद्योगपति को फायदा पहुचाने के लिए कृषि बिल लेकर आई है जिसके बाद किसान सिर्फ बंधुआ मजदूर बनकर रह जायेगा। वही उन्होंने ने यह भी बताया है कि अब हम लोग उत्तर प्रदेश के अयोध्या ,बाराबंकी में महापंचायत करेंगे जिसकी तैयारियां शुरू कर दी है ।

वही कुछ न्यूज़ चैनल को लेकर भी अपना दर्द बताया कि हमारे आंदोलन को पाकिस्तान से जुड़ा बता रहे कभी खालिस्तान तो कभी आतंकी बताया जा रहा है यदि मीडिया अपना काम ईमानदारी से करे तो सरकार की असलियत सबके सामने आ जाएगी ।

रिपोर्ट- Fazalur Rahman

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button