उत्तराखंड: केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए चार लोगों के मिले नरकंकाल

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में 4 नरकंकाल मिले, 2013 केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के हैं, डीएनए टेस्ट के बाद पुष्टि हुई 16-17 जून वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के मृत शरीर, नर कंकाल खोजने के लिए सोनप्रयाग से पुलिस और एसडीआरएफ की 10 टीमें रवाना हो गईं।

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में 4 नरकंकाल मिले, 2013 केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के हैं, डीएनए टेस्ट के बाद पुष्टि हुई 16-17 जून वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के मृत शरीर, नर कंकाल खोजने के लिए सोनप्रयाग से पुलिस और एसडीआरएफ की 10 टीमें रवाना हो गईं।

सोनप्रयाग में पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने सभी 10 टीमों को ब्रीफ करने के बाद अपने गतंव्य को रवाना किया। पहले दिन टीमों को कोई नर कंकाल नहीं मिले।

पीलीभीत पुलिस का अमानवीय चेहरा, टूटे हुए हाथ के साथ थाने पहुंचे फरियादी का ही काटा चालान

बुधवार सुबह आपदा में लापता हुए लोगों के नरकंकालों की खोजबीन के लिए जिला स्तर पर गठित 10 टीमों को अलग अलग ट्रेकों के लिए रवाना किया गया। सोनप्रयाग में पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह ने सभी टीमों के सदस्यों को ब्रीफ करते हुए जरूरी दिशा-निर्देश दिए। 8 बजे सभी टीमों ने अपने अपने गतंव्य को प्रस्थान किया। पहली टीम ने गौरीकुण्ड से केदारनाथ एवं वर्तमान पैदल मार्ग के आस-पास खोजबीन की जबकि दूसरी टीम ने गौरीकुण्ड से गोऊंमुखड़ा, तीसरी टीम ने गौरीकुण्ड से मुनकटिया ऊपरी क्षेत्र होते हुए सोनप्रयाग, चौथी टीम ने त्रियुगीनारायण से गरुड़चट्टी होते हुए केदारनाथद।

4 Narakankalas found in Rudraprayag, Uttarakhand

पांचवी टीम ने कालीमठ से चौमासी होते हए रामबाड़ा, छटवी टीम ने जंगलचट्टी का ऊपरी क्षेत्र, सातवीं टीम ने रामबाड़ा का ऊपरी क्षेत्र, आठवीं टीम केदारनाथ बेस कैम्प का ऊपरी क्षेत्र व केदारनाथ मन्दिर के आसपास का क्षेत्र, नवीं टीम केदारनाथ से चौराबाड़ी एवं आसपास का क्षेत्र एवं दसवी टीम ने केदारनाथ से वासुकिताल को प्रस्थान किया।

अमेठी – महिला सब इंस्पेक्टर ने मांगी छुट्टी तो कहा जाओ मर जाओ…

सभी टीमों को ट्रैक रूटों पर सर्च करने के बाद सांयकाल होते ही सुरक्षित स्थानों पर कैंपिंग करने के निर्देश दिए गए हैं साथ ही दूसरे दिन फिर से अभियान शुरू किया जाएगा। वहीं पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह बुधवार सांय केदारनाथ पहुंच गए हैं। उन्होंने बताया कि बुधवार को कोई नर कंकाल बरामद नहीं हुआ है।

ब्रीफिंग के दौरान सोनप्रयाग में प्रतिसार निरीक्षक पुलिस लाइन समरवीर सिंह रावत, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली सोनप्रयाग होशियार सिंह पंखोली, प्रभारी एसडीआरएफ सोनप्रयाग मौजदू थे। अभियान में पुलिस, एसडीआरएफ के 50 व स्वास्थ्य विभाग के 10 सहित कुल 60 लोग शामिल हैं।

कासगंज :शराब सेल्समैन की हत्या, परिजनों ने सिपाही पर लगाया आरोप

दस टीमों में पचास पुलिसकर्मी गूगल मैपिंग के जरिये चलाएंगे अभियान

केदारनाथ आपदा में लापता लोगों की तलाश में केदारनाथ घाटी में सर्चिंग अभियान शुरू हो गया है। बुधवार को गूगल के जरिये मैपिंग कर सहायता दस टीमों ने सर्चिंग अभियान चलाया। आईजी अभिनव कुमार ने एसपी रुद्रप्रयाग नवनीत भुल्लर को रोजाना कार्रवाई के बारे में अपडेट देने को निर्देशित किया है।

आईजी अभिनव कुमार ने बताया कि शासन ने वर्ष 2013 में केदारनाथ धाम में आयी आपदा में गुमशुदा हुये लोगों की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाने के आदेश जारी किए हैं।इसी क्रम में सर्च ऑपरेशन के लिए दस टीमों का गठन किया गया है। प्रत्येक टीम में एक दारोगा, दो कांस्टेबल (जिला पुलिस) और दो कांस्टेबल एसडीआरएफ को शामिल किया गया है। 16 सितंबर को टीम हुई है रवाना।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button