सुल्तानपुर : हिमांशु मर्डर केस में नगर कोतवाल ने नहीं भेजी वांटेड रिपोर्ट….

सुल्तानपुर शहर के सबसे चर्चित हिमांशु मर्डर केस में नगर कोतवाल ने अदालत में वांटेड रिपोर्ट ना भेज कर एक बार फिर इस केस के मुख्य आरोपी को अदालत में सरेंडर करने से रोक दिया है।

सुल्तानपुर शहर के सबसे चर्चित हिमांशु मर्डर केस में नगर कोतवाल ने अदालत में वांटेड रिपोर्ट ना भेज कर एक बार फिर इस केस के मुख्य आरोपी को अदालत में सरेंडर करने से रोक दिया है। अदालत ने इस केस के मुख्य आरोपी प्रतिभा उपाध्याय के सरेंडर प्रार्थना पत्र पर 8 जनवरी की तारीख नियत की है। अब देखना यह है कि 8 तारीख को नगर कोतवाल वांटेड रिपोर्ट अदालत में भेजते हैं या नहीं उधर प्रतिभा के अधिवक्ता जे एन मिश्रा ने सीजेएम कोर्ट में नगर कोतवाल को तलब करके दंडित करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया है।

ये भी पढ़ें – बिहार: फिरोज मियां मेरे घर में घुस मेरी इज्जत लूटने की नीयत से…..

सीजेएम ने प्रतिभा उपाध्याय के अधिवक्ता की ओर से दिए गए प्रार्थना पत्र पर सुनवाई के लिए 8 जनवरी की तारीख नियत की है सोमवार को पूरे जिले की निगाहें सीजीएम कोर्ट पर लगी हुई थी लोगों ने सोचा था कि हिमांशु मर्डर केस के मुख्य आरोपी बुलेट रानी नाम से विख्यात प्रतिभा उपाध्याय कोर्ट में सरेंडर करेंगी लेकिन कोर्ट में नगर कोतवाल ने वांटेड रिपोर्ट नहीं भेजी इस वजह से प्रतिभा उपाध्याय ने अदालत के सामने सरेंडर नहीं किया।

रिपोर्ट ना भेजने से नाराज प्रतिभा के अधिवक्ता जितेंद्र नाथ मिश्रा ने सीजेएम हरीश कुमार के सामने नगर कोतवाल भूपेंद्र कुमार सिंह को तलब करके दंडित करने का प्रार्थना पत्र दिया प्रतिभा के अधिवक्ता जे एन मिश्रा की ओर से दिए गए प्रार्थना पत्र में कहा गया कि हिमांशु मर्डर केस की कथित आरोपी प्रतिभा उपाध्याय ने कोर्ट में हाजिर होने के लिए 16 दिसंबर को प्रार्थना पत्र दिया कई पेशी बीत जाने के बाद भी जानबूझकर नगर कोतवाल ने अदालत में वांटेड रिपोर्ट नहीं भेजी और बिना अदालत के आदेश के प्रतिभा उपाध्याय को ₹25000 का इनामी अपराधी घोषित कर दिया नगर कोतवाल ने वांटेड रिपोर्ट ना भेज कर न्यायालय के आदेश की अवमानना की है इसलिए उन्हें न्यायालय में तलब करके दंडित किया जाए प्रतिभा के अधिवक्ता का यह भी कहना है कि जब कोई आरोपी अदालत और पुलिस दोनों से भागता है तब उसके खिलाफ इनाम की कार्रवाई की जाती है लेकिन प्रतिभा अदालत और कानून से नहीं भाग रही है वह बेकसूर है इसलिए उसने न्यायालय में समर्पण करने का प्रार्थना पत्र दिया है पुलिस उसे अदालत में समर्पण करने से रोकना चाहती है इसलिए जान बूझकर नगर कोतवाल अदालत में रिपोर्ट नहीं भेज रहे हैं प्रतिभा के अधिवक्ता ने कहा की अगर इसी तरह कानून का मजाक बनता रहा तो वह शीघ्र ही जिला जज से पूरे मामले की शिकायत करेंगे और यहा कोई कार्रवाई नहीं होने पर चीफ जस्टिस ऑफ यूपी से पूरे मामले की शिकायत करेंगे गौरतलब हो कि कोतवाली नगर में प्रतिभा उपाध्याय और उनकी पुत्री सेजल के खिलाफ मुकदमा अपराध संख्या 1230 धारा 364 के अंतर्गत हिमांशु के बड़े भाई प्रदीप कुमार सिंह की तहरीर पर 5 दिसंबर को थाना कोतवाली नगर में अभियोग पंजीकृत हुआ हिमांशु की लाश बरामद होने के बाद धारा 364 भा द वी को 302 में तरमीम किया गया नगर कोतवाली की पुलिस ने इस केस में वांटेड दो आरोपियों वाहिद और गुफरान को पहले ही गिरफ्तार करके जेल भेज दिया और उनसे आला कत्ल भी बरामद कर लिया अब प्रतिभा उपाध्याय और उनकी बेटी की तलाश में पुलिस जुटी हुई है पुलिस खुद को नाकाम देखते हुए प्रतिभा को अदालत के बाहर गिरफ्तार करके वाहवाही लूटना चाहती है लेकिन अभी तक प्रतिभा की गिरफ्तारी न होने से पुलिस की चारों तरफ किरकिरी हो रही है अब देखना यह है कि 8 जनवरी को नगर कोतवाल भूपेंद्र सिंह वांटेड रिपोर्ट अदालत में भेजते हैं या नहीं अगर नगर कोतवाल ने 8 जनवरी को रिपोर्ट नहीं भेजी तो उनके खिलाफ अदालत से कड़ी कार्रवाई हो सकती है कानून के जानकारों का मानना है कि पुलिस बिना अदालत से एनबीडब्ल्यू या 82 83 सीआरपीसी की कार्रवाई का आदेश लिए बिना अपराधी को इनामियां घोषित नहीं कर सकती हैं लेकिन कोतवाली नगर की पुलिस ने अदालत से बिना कोई आदेश प्राप्त किए प्रतिभा को इनामी घोषित करके बहुत बड़ी गलती की है प्रतिभा को इसका फायदा अदालत में मिल सकता है।

रिपोर्ट- Santosh pandey

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button