शिक्षा मित्रों के मानदेय बढ़ाने को लेकर मायावती का योगी सरकार पर तंज, कहा- कांग्रेस की राह पर चल रही बीजेपी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही मायावती आए दिन योगी सरकार पर निसाना साधते रहती हैं। पंचायत चुनावों के बाद एक्टिव हुई मायावती योगी सरकार पर रोज हमला करती देखी जा रही हैं।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही मायावती आए दिन योगी सरकार पर निसाना साधते रहती हैं। पंचायत चुनावों के बाद एक्टिव हुई मायावती योगी सरकार पर रोज हमला करती देखी जा रही हैं। कभी ट्वीट कर कभी प्रेस वार्ता कर सरकार को घेरते नजर आती हैं। पार्टी के मुखिया मायावती ने यूपी में शिक्षामित्रों के मानदेय बढ़ाने को लेकर योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा है,बसपा सुप्रीमो मायावती ने कही कि ये देर से उठाया गया कदम है, जिसे पहले किया जाना चाहिये था। उन्होंने कहा कि, चुनाव नजदीक देखकर बीजेपी ने ऐसा किया है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्विटर के जरिए कहा है कि यदि यह बात सही है कि यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले शिक्षा मित्रों का मानदेय बढ़ सकता है तो यह काफी विलंब से उठाया गया कदम है। यह कार्य बहुत पहले हो जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि चुनाव के नजदीक ऐसे फैसले करना कांग्रेस की संस्कृति रही है जिस पर अब भाजपा भी चल रही है। जनता सब समझती है जबकि बसपा की कार्यशैली अलग रही है। इसी कारण वर्ष 2007 में सरकार बनते ही हमने अपर कास्ट की भर्ती पर लगी रोक को तुरंत हटाया। इससे इस पूरे समाज को भरपूर लाभ हुआ और उन्हें यहां वर्षों बाद बड़ी संख्या में सरकारी नौकरी मिली।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार योगी सरकार विधानसभा चुनाव से पहले करीब डेढ लाख शिक्षामित्रों के मानदेय दो से चार हजार रुपये की बढ़ोतरी कर सकती है। शिक्षामित्रों को फिलहाल 10 हजार रुपये मानदेय मिलता है और पिछले चार सालों में इसमें बढ़ोतरी नहीं की गयी है। बेसिक शिक्षा विभाग ने सरकार को 1.46 लाख शिक्षा मित्रों को दिए जा रहे मानदेय, सरकार पर वित्तीय भार समेत पूरा ब्यौरा दे दिया है। सूत्रों के मुताबिक, योगी सरकार विधानसभा चुनाव से पहले शिक्षा मित्रों के मानदेय में दो से चार हजार रुपए तक की बढ़ोतरी कर सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button