अलीगढ़: पकड़ा गया बदायूं रेप कांड का महंत, निकला हमशक्ल

शब्जी कारोबारी की सूचना पर पकड़े गए रेप के आरोपी को पकड़ने के बाद पहले पुलिस खुशीयां मनाती रही, लेकिन जब सच्चाई सामने आई तो पुलिस मायूस नजर आई।

शब्जी कारोबारी की सूचना पर पकड़े गए रेप के आरोपी को पकड़ने के बाद पहले पुलिस खुशीयां मनाती रही, लेकिन जब सच्चाई सामने आई तो पुलिस मायूस नजर आई।

दरअसल बदायूं के अघैती क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या के मुख्य आरोपित महंत सत्यनारायण पुलिस के लिए सिर दर्द बन गया है। दोपहर 12 बजे के करीब पुलिस ने सत्यनारायण को अलीगढ़ के इगलास कस्बा से गिरफ्तार करने की बात सामने आरही थी। लेकिन पुलिस उसको गुप्त रखना चाहती थी जैसे ही पता चला पुलिस के द्वारा पकड़ा गया युवक आरोपी नहीं है,तो पुलिस के द्वारा अपना पल्ल्ला झाड़ते हुए,आरोपी को छोड़ दिया

दरअसल बदायूं के अघैती क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या के मुख्य आरोपित महंत सत्यनारायण पुलिस के लिए सिर दर्द बन गया है। उसकी तलाश में एसटीएफ से लेकर कई टीम लगी हुई हैं। दोपहर 12 बजे के करीब पुलिस ने सत्यनारायण को अलीगढ़ जिले के इगलास कस्बा से गिरफ्तार करने की बात कही थी। लेकिन कुछ देर बाद ही पुलिस को सफाई देनी पड़ी कि पकड़ा गया व्यक्ति आरोपित सत्यनारायण नहीं है।

ये भी पढ़े-चित्रकूट: अखिलेश यादव ने सरकार पर बोला हमला, वैक्सीन को लेकर कही ये बात

इगलास में सब्जी बिक्रेता शनि ने एक व्यक्ति को आरोपित सत्यनारायण समझकर पुलिस को सूचना दे दी। इगलास पुलिस ने प्रथम दृष्टया उसे सत्यनारायण समझ लिया। पकड़े गए व्यक्ति का नाम भी सत्यनारायण था, हुलिया भी आरोपित से मिलता जुलता है। इसलिए पुलिस को लग रहा था कि आरोपित हाथ लग गया, लेकिन जब उससे पूछताछ की तो सच्चाई सामने आई।पकड़ा गया युवक गुजरात के सूरत का रहने वाला है। उसके पास से आधार कार्ड भी मिला है। जिस पर उसका नाम सत्यनारायण वेंकटैया अडागटला दर्ज है। बदायूं पुलिस ने भी आरोपित सत्यनारायण न होने की पुष्टि की है।

बदायूं पुलिस के साथ सत्यनारायण का एक करीबी भी है जो उसे पहचानता है। फिलहाल पुलिस नए सिरे से आरोपित सत्यनारायण की तलाश में जुट गई है। अधिकारियों का कहना है इगलास थाना क्षेत्र में एक सब्जी वाले ने बदायूं कांड में संदिग्ध साधु के बारे में सूचना दी थी। साधु का हुलिया आरोपित से मिलता-जुलता था। इस पर थाने लाकर पूछताछ की गई। बदायूं से भी एक टीम जांच करने आई, लेकिन साधु से मुलाकात और आधार आदि के सत्यापन में सामने आया है कि साधु का बदायूं कांड से कोई लेना-देना नहीं है।

report: ख़ालिक़ अंसारी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button