लखनऊ: अगले हफ्ते हो सकता है योगी मंत्रिमंडल का विस्तार, सात नए मंत्री होंगे शामिल

केंद्रीय मंत्रिमंडल में विस्तार के बाद अब प्रदेश में योगी मंत्रिमंडल के विस्तार की भी चर्चा तेज हो गई है। सूत्रों का कहना है कि विस्तार अगले हफ्ते ही किया जा सकता है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में विस्तार के बाद अब प्रदेश में योगी मंत्रिमंडल के विस्तार की भी चर्चा तेज हो गई है। सूत्रों का कहना है कि विस्तार अगले हफ्ते ही किया जा सकता है। यह योगी सरकार का तीसरा विस्तार होगा। इसके लिए भाजपा संगठन और सरकार ने नाम तय कर लिए हैं। मंत्रिमंडल में सात नए चेहरे शामिल किए जा सकते हैं। वहीं चार एमएलसी भी मनोनीत होने हैं। इस विस्तार में विधानसभा चुनाव को देखते हुए सहयोगी दलों का भी समायोजन हो सकता है।

उत्तर प्रदेश में अगले साल चुनाव होने हैं, योगी सरकार इस मंत्रिमंडल विस्तार के सहारे सारे क्षेत्रीय और जातीय संतुलन को साधने की कोशिश की करेगी। माना जा रहा है कि कुछ मंत्रियों के विभाग बदले जा सकते हैं, कोशिश है कि चुनावों से पहले सरकार की छवि को बदला जा सके। कैबिनेट विस्तार के दौरान, इस बार नए चेहरों को जगह दी जा सकती है। साथ ही जिन चार सदस्यों को मनोनीत किया जाना है, उस मसले पर भी स्वतंत्र देव सिंह, सुनील बंसल बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मंथन कर सकते हैं।

बीजेपी के सहयोगी दलों में निषाद पार्टी और अपना दल को भी इस कैबिनेट विस्तार के साथ खुश किया जा सकता है। अनुप्रिया पटेल को चूंकि केंद्र में कैबिनेट मंत्री का दर्जा नहीं मिला है, इसलिए उनकी पार्टी के कोटे से यूपी में एक मंत्री बनाया जा सकता है। निषाद पार्टी के संजय निषाद को भी भागीदारी देकर उनका ‘असंतोष’ खत्म किया जा सकता है। माना जा रहा है कि नामित एमएलसी के अलावा निषाद पार्टी से कुछ नेताओं को जगह दी जा सकती है. वेस्ट यूपी व रुहेलखंड से भी कुछ चेहरे जोड़े जाएंगे।

मौजूदा यूपी कैबिनेट की बात करें तो सीएम के अलावा 22 कैबिनेट मं‌त्री, 9 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 21 राज्यमंत्री यानी कुल 53 लोग हैं। कैबिनेट में 60 लोग शामिल हो सकते हैं। इस वजह से अधिकतम सात नए मं‌त्रियों को शामिल किया जा सकता है। कैबिनेट में दलित, पिछड़ा वर्ग के साथ ब्राह्मणों को भी प्रतिनिधित्व मिलने की संभावना है।

हाल ही में लखनऊ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के बीच बैठक हुई। इस मीटिंग में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए थे, जिसमें मंत्रिमंडल विस्तार और आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर मंथन किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button