लखनऊ : लेखपाल और काकोरी पुलिस की भूमिका पर उठे गंभीर सवाल

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भू-माफिायाओं पर नकेल कसने के लिए न सिर्फ अधिकारियो को सख्त दिशा निर्देश दिए थे....

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भू-माफिायाओं पर नकेल कसने के लिए न सिर्फ अधिकारियो को सख्त दिशा निर्देश दिए थे बल्कि भू-माफियाओ पर नकेल कसने के लिए एन्टी भू-माफिया सेल का गठन भी किया था , लेकिन बावजूद इसके पुलिस और लेखपाल की मिली भगत से जमीनो पर अवैध कब्जा किए जाने की खबरे लगातार मिल रही है।

लेखपाल की मिली भगत से जमीन पर अवैध कब्जा किए जाने का ताजा मामला काकोरी थाना क्षेत्र का प्रकाश मे आया है जहंा काकोरी के ग्राम गहलवारा के रहने वाले दूध के कारोबारी की जमीन पर लेखपाल कानूनगो की दबंगो से मिली भगत कर अवैध कब्जा कराए जाने का गम्भीर आरोप लगा है। ग्राम गहलवारा काकोरी के रहने वाले दूध के कारोबारी नौशाद अली द्वारा मृुख्यमंत्री को भेजे गए प्रार्थना पत्र मे लेखपाल इजहार अली और कानूनगो पर उनकी जमीन की अवैध तरीके से पैमाईश कर दबगों के साथ मिल कर अवैध कब्जा कराए जाने का आरोप लगाया गया है।

ये भी पढ़ें – ‘देवर भाभी को हो गया था प्यार’ और फिर एक दिन दोनों ने उठाया ऐसा खौफनाक कदम कि दहल जाएगा दिल …

मुख्यमंत्री के जन सुनवाई पोर्टल पर नौशाद अली द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत मे लिखा गया है कि उनकी जमीन के बराबर मे मेंहदी हसन की भूमि है जिसकी पैमाईश लेखपाल इजहार अली व कानूनगो द्वारा पहले की गई थी जिसमे उनकी जमीन के हिससे को भी नापा गया था । नौशाद अली के अनुसार उनके विरोध करने पर लेखपाल व कानूनगो द्वारा उनकी जमीन पर कब्जा करा के निर्माण कराए जाने की धमकी दी गई थी।

मुख्यमंत्री से की गई शिकायत मे कहा गया है कि पिछले महीने की 21 तारीख को लेखपाल ने स्थानीय पुलिस व भू-माफियाओ के साथ मिल कर उनकी जमीन की जबरन पैमाईश की और उनकी जमीन पर निर्माण भी शुरू करवा दिया। नौशाद के अनुसार उनकी जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण का उनके द्वारा विरोध किया गया लेकिन बावजूद इसके मेंहदी हसन ने भू-माफियाओ के बल पर अवैध निर्माण जारी रख्खा है। नौशाद द्वारा ये आरोप भी लगाया गया है कि उनकी जमीन की जबरन पैमाईश कर उनकी जमीन पर अवैध निर्माण कराने वाले लेखपाल इजहार अली और मेंहदी हसन आपस मे रिश्तेदार है। नौशाद अली ने स्थानीय पुलिस पर मेंहदी हसन और लेखपाल इजहार अली से सांठगांठ का आरोप लगाते एसीपी काकोरी के नाम भेजे प्रार्थना पत्र में कहा है कि स्थानीय पुलिस द्वारा उन्हे ये कह कर थाने से भगा दिया गया कि पुलिस इस प्रकरण मे कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी। इस सम्बन्ध में इन्स्पेक्टर काकोरी प्रमेन्द्र सिंह का कहना है कि मामला उनके संज्ञान मे है दोनो पक्षो को कागजात के साथ थाने बुलाया गया है। नौशाद अली द्वारा लेखपाल और स्थानीय पुलिस पर लगाए गए आरोप इस लिए गम्भीर है क्ंयूकि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जमीनो पर अवैध कब्ज करने वालों के सख्त खिलाफ है और नौशाद की जमीन पर अवैध कब्जे की शिकायत किए हुए 10 दिन का समय बीत गया है लेकिन शिकायत के बाद भी नौशाद को न्याय मिलने की उम्मीद कम ही है बल्कि नौशाद को ये डर भी सता रहा है कि दबंग भू-माफियां और लेखपाल उनहे नुकसान पहुंचा सकते हैं।

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button