सपा ने प्रदेश के सभी जिलों में मनाई स्वामी विवेकानंद जी की जयंती, अर्पित की पुष्पांजलि

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के निर्देश पर आज यानी मंगलवार को राजधानी लखनऊ (Lucknow) सहित प्रदेश के सभी जनपदों में स्वामी विवेकानंद जी (Swami Vivekananda) की जयंती पर उनका पुण्यस्मरण करते हुए पुष्पांजलि अर्पित की गई।

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के निर्देश पर आज यानी मंगलवार को राजधानी लखनऊ (Lucknow) सहित प्रदेश के सभी जनपदों में स्वामी विवेकानंद जी (Swami Vivekananda) की जयंती पर उनका पुण्यस्मरण करते हुए पुष्पांजलि अर्पित की गई।

समाजवादी पार्टी मुख्यालय में स्वामी विवेकानंद को पुष्पांजलि

समाजवादी पार्टी मुख्यालय में स्वामी विवेकानंद जी (Swami Vivekananda) के चित्र पर नेता विरोधी दल विधानसभा राम गोविन्द चौधरी, राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने पुष्पांजलि अर्पित की।

Swami Vivekananda

ये भी पढ़ें : चंदौली में ‘किसान घेरा कार्यक्रम’ में समाजवाद की आवाज बुलंद करने जा रहे सपा सांसद धर्मेंद्र यादव पर जगह-जगह बरसे फूल, देखें VIDEO

अखिलेश यादव ने ने स्वामी विवेकानंद जी को दी भावांजलि 

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने स्वामी विवेकानंद जी (Swami Vivekananda) को भावांजलि देते हुए कहा कि स्वामी जी ने असहाय और समाज के वंचित वर्गो की सेवा को ही ईश्वर की भक्ति माना था। अध्यात्म को सामाजिक सरोकारों से जोड़ा था। उन्होंने शिक्षा, सेवा, त्याग और समर्पण पर विशेष बल दिया था। उनका राष्ट्रवाद कट्टरता से मुक्त समन्वयवादी है। स्वामी जी मानते थे कि सांप्रदायिकता, असहिष्णुता और जातीयता ने इस देश को बहुत नुकसान पहुंचाया है।

यह भी पढ़ें- आज जौनपुर दौरे पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव, स्वागत करने बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचे हजारों सपाई, VIDEO

सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) का कहना था कि हमें सार्वभौमिक सहिष्णुता पर विश्वास के साथ सभी धर्मो को सच के रूप में हमें स्वीकार करना चाहिए। वे मानते थे कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं है। भूखे पेट और निरक्षरता से अध्यात्म की चर्चा नही हो सकती है। उन्होंने युवाओं को स्वास्थ्य, शिक्षा और अनुशासनपूर्ण जीवन का संदेश दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button