दिल्ली में फिर बेकाबू हुआ कोरोना, सीएम केजरीवाल ने लॉकडाउन लगाने के लिए लिखा पत्र

दिल्ली में बेकाबू होते कोरोना के मामलों को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने चिंता जताई है. उन्होंने कहा है कि, जिस तरह से मामले सामने आ रहे हैं उससे उन बाजारों को बंद किया जा सकता है जहां पर नियमों का सख्ती से पालन नहीं किया जा रहा है.

दिल्ली में बेकाबू होते कोरोना के मामलों को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने चिंता जताई है. उन्होंने कहा है कि, जिस तरह से मामले सामने आ रहे हैं उससे उन बाजारों को बंद किया जा सकता है जहां पर नियमों का सख्ती से पालन नहीं किया जा रहा है. सीएम केजरीवाल ने बताया कि, कुछ बाजार ऐसे हैं जो सुपर स्प्रेडर का काम कर रहे हैं. ऐसे बाजारों को बंद करने के लिए केंद्र सरकार को सिफारिश भेज दी है कि, लोकल स्तर पर लॉकडाउन लगाने की अनुमति दी जाए.

केंद्र को भेजा गया प्रस्ताव

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस बात का एलान किया है कि उन्होंने केंद्र सरकार को सिफारिश भेज दी है कि लोकल स्तर पर लॉकडाउन लगाने की अनुमति दी जाए. ऐसे बाजारों को बंद करने की सिफारिश की गई है जो सुपर स्प्रेडर का काम कर रहे हैं. इसके अलावा शादियों में फिर से 200 लोगों की जगह केवल 50 लोगों को आने की मंजूरी दी जाए ये प्रस्ताव भी एलजी को भेजा गया है. दिल्ली सरकार ने उप राज्यपाल को शादी समारोह में 200 की बजाय अब केवल 50 लोगों को ही शिरकत करने की अनुमति देने के संबंध में एक प्रस्ताव भेजा है.

ये भी पढ़ें – बुलंदशहर : योगी सरकार में गैंगरेप पीड़िता को नहीं मिला इंसाफ, कर लिया आत्महत्या

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार, केन्द्र और सभी एजेंसियां दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति को नियंत्रति करने के लिए ‘‘दोगुना प्रयास’’ कर रही हैं. इसी कड़ी में अर्धसैनिक बलों के 75 डॉक्टर और 250 चिकित्सा सहायक भी दिल्ली आए हैं जो कोविड-19 से लड़ने के लिए मेडिकल स्टाफ की सहायता करेंगे.

दिल्ली में कोरोना की दहशत

दिल्ली में अब तक कोरोना के 4,89,202 लाख केस आ चुके हैं और कुल एक्टिव केस 40,128 हैं. पिछले 24 घंटे में यहां 99 लोग मौत की गोद में समा चुके हैं. दिल्ली में कोरोना की दहशत इस कदर है कि पिछले 24 घंटे में यहां 7713 केस सामने आ चुके हैं और ये आंकड़ा बीते दिनों 8000 प्रति दिन के स्तर को पार कर गया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button