घर में गंगाजल रखना होता है शुभ, लेकिन ये बातें सभी को पता होनी जरूरी हैं…

सनातन धर्म में गंगा नदी को मां का दर्जा दिया गया है, इसलिए भक्त अपने घर को पवित्र रखने के लिए गंगाजल अपने घर में रखते हैं। 

सनातन धर्म में गंगा नदी को मां का दर्जा दिया गया है, इसलिए भक्त अपने घर को पवित्र रखने के लिए गंगाजल अपने घर में रखते हैं। गंगा माता की कृपा से सभी दुर्भाग्य दूर हो जाता है। जब भी भक्तजन गंगा के स्नान के लिए जाते हैं तो वहां से गंगाजल जरूर लेकर आते हैं ताकि अपने घर पर इस पवित्र जल को छिड़क सकें। जिससे की घर पर कुछ बुरा ना हो।

इसके अलावा यह गंगाजल घर में हो रही पूजा-पाठ में भी काफी उपयोग में लाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं की घर में गंगाजल जब आप रखते हैं तो किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? क्योंकि अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो इसे बहुत अशुभ माना जाता है।

आइये जानते हैं गंगाजल को घर में रखने के पिछे आप किन बातों का रखे ध्यान।

अधिकतर लोग गंगाजल को प्लास्टिक की बोतल में रखते हैं, जो कि अशुभ होता है। इस पवित्र जल को हमेशा तांबे या चांदी के बर्तन में रखना चाहिए।

ये भी पढ़ें – वाराणसी : अब बनारस ‘रेल इंजन कारखाना’ के नाम से जाना जायेगा DLW

घर में जहां गंगाजल रखा जाता है, वहां साफ-सफाई का बहुत ध्यान रखना चाहिए। गंगा जल पूजनीय होता है और जिसकी वजह से इसके आसपास पवित्रता बनाए रखनी चाहिए।

जिस कमरे में भी आप गंगाजल रखते हैं वहां मांस-मदिरा का सेवन बिल्कुल भी ना करें, एेसा करना आपके दुर्भाग्य को बुलावा देने के समान होता है।

इस बात का खास ध्यान रहे कि गंगाजल को कभी भी अंधेरे स्थान पर ना रखें।

गंगाजल का उपयोग करने से पहले हाथों को साफ कर लेना चाहिए। इसके बाद मां गंगा का ध्यान करते हुए इसका प्रयोग करें।

समय-समय घर में गंगाजल की कुछ बूंदों का छिड़काव करते रहना चाहिए। इससे घर में सकारात्मकता बनी रहती है।

हर शनिवार एक लोटे में साफ जल भरें और उसमें थोड़ा सा गंगाजल डाल लें। ये पानी पीपल को चढ़ाएं। ऐसा करने से शनि के साथ कुंडली के अन्य दोषों से भी मुक्ति मिल सकती है।

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button