कासगंज: दबिश देने गई पुलिस पर शराब माफिया ने किया हमला, सिपाही की मौत, दरोगा की हालत गंभीर

अवैध शराब की सूचना पर दबिश देने गई पुलिस पर शराब माफिया ने हमला कर दिया। दरोगा सिपाही को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया। दोनों को लहूलुहान हालत में छोड़कर सभी फरार हो गए। पुलिस फोर्स ने दोनों को अस्पताल पहुंचाया। जहां सिपाही की मौत हो गई और दरोगा की हालत गंभीर बनी हुई है।

कानपुर के बिकरू में विकास दुबे और उसके साथियों पर दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला किया था। अब कासगंज में शराब माफिया (Liquor mafia) ने उसी तरह की घटना को अंजाम दिया है।

सिपाही की मौत हो गई और दरोगा की हालत गंभीर

अवैध शराब की सूचना पर दबिश देने गई पुलिस पर शराब माफिया (Liquor mafia)ने हमला कर दिया। दरोगा सिपाही को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया। दोनों को लहूलुहान हालत में छोड़कर सभी फरार हो गए। पुलिस फोर्स ने दोनों को अस्पताल पहुंचाया। जहां सिपाही की मौत हो गई और दरोगा की हालत गंभीर बनी हुई है।

ऐसे कारोबारों से सरकारी सीढ़ियों तक कैसे चढ़ावा चढ़ता है

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिसकर्मियों पर बिकरू काण्ड जैसा हमला हुआ। पुलिस वहाँ के गाँव में अवैध शराब का कारोबार बंद कराने गयी थी लेकिन यह सर्वविदित है कि ऐसे कारोबारों से सरकारी सीढ़ियों तक कैसे चढ़ावा चढ़ता है। परिणामस्वरूप माफ़िया को पुलिस के आने की ख़बर पहले ही हो गयी।

यह भी पढ़ें- लाल किले हिंसा के आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में खोले कई राज़, बताया कैसे की गई थी प्लानिंग

…और दारोगा खेत में लहूलुहान पड़े मिले

पहुँचने पर शराब माफ़ियाओं (Liquor mafia) ने पुलिस को घेर लिया और दारोगा, अशोक व सिपाही, देवेंद्र को बंधक बना लिया। मौका मिलते ही सम्पर्क किया गया और अतिरिक्त पुलिस बल की मदद ली गयी। कॉम्बिंग के दौरान सिपाही अर्धनग्न अवस्था में मृत पाये गये, उनकी हत्या कर दी गयी और दारोगा खेत में लहूलुहान पड़े मिले।

यह भी पढ़ें- लाल किले हिंसा के आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में खोले कई राज़, बताया कैसे की गई थी प्लानिंग

इस मामले में योगी सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए रासुका लगा दी है और आरोपियों की तलाश जारी है। बिकरू काण्ड के बाद योगी सरकार ने जिस तरह काम किया उससे राज्य के माफ़ियाओं में दहशत का माहौल बन गया था जिसके बाद एक वर्ष के भीतर ही दिल दहलाने वाली यह घटना भयावह है।

सिपाही शहीद हो गये, कुछ घायल हैं

एक छोटी टीम के साथ किसी ऑपरेशन पर निकलना पुलिस के लिए जोखिम भरा हो चुका है। शहर के बीचों-बीच रह रहे गुंडे आतंकवादियों की तरह वर्दीधारियों पर हमले कर रहे हैं। यह सब इतना सहज होना ख़तरनाक है वह भी तब जब उन्हें पता है कि हश्र क्या हो सकता है। लहूलुहान दारोगा की तस्वीर मायूस करती है। सिपाही शहीद हो गये, कुछ घायल हैं। शहीद सिपाही, देवेन्द्र के परिवार के लिये मुआवज़े

और नौकरी की घोषणाएं हो चुकी हैं लेकिन ब्रह्माण्ड की कोई क़ीमत अबतक इतनी बड़ी कहाँ हुई जो रुक चुकी सांसों में जान डाल सके। ज़रूरी है कि ऐसे माफ़ियाओं पर कठोरतम तरीके से नकेल कसी जाए।

दिल दहलाने वाली इस घटना ने नींद उड़ा दी है। पुलिस अब भी छानबीन कर रही है, पता नहीं सुबह तक कितने पुलिसकर्मी किस स्थिति में मिलें। उन गुंडों के लिए मुखबिरी करने वाला भी कोई ख़ास ही होगा। पैसे की ख़ातिर ज़मीर बेचना जबतक आसान रहेगा, ईमानदारी और कर्त्तव्यनिष्ठा लहूलुहान होती रहेगी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button