थायराइड को कंट्रोल करना है तो खाएं ये फल, हमेशा हेल्दी रहेंगे आप

दुनिया में बहुत से लोग ऐसे हैं, जो थायरॉइड की समस्या से परेशान हैं। थायरॉइड तितली के आकार की एक ग्रंथि होती है। यह गर्दन के अंदर और कॉलरबोन के ठीक ऊपर होती है।

दुनिया में बहुत से लोग ऐसे हैं, जो थायरॉइड की समस्या से परेशान हैं। थायरॉइड तितली के आकार की एक ग्रंथि होती है। यह गर्दन के अंदर और कॉलरबोन के ठीक ऊपर होती है। थायरॉइड एक प्रकार की एंडोक्राइन ग्रंथि है, जो हार्मोन्स को बनाती है। यह समस्या महिलाओं को अधिक प्रभावित करती है। इस ग्रंथि में जब किसी तरह की परेशानी आती है तो थकान, बाल टूटना, कोल्ड, वजन बढ़ना और अन्य लक्षण नजर आने लगते हैं।

थायरॉइड के लक्षण
चिड़चिड़ापन, अधिक पसीना आना, हाथों का कांपना, बालों का पतला होना और झड़ना, मांसपेशियों में कमजोरी एवं दर्द रहना, दिल की धड़कन बढ़ना, बहुत भूख लगने के बाद भी वजन घटता है।

दो तरह के होते हैं थायरॉइड
हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो जब किसी व्यक्ति के शरीर में थायरोक्सिन हार्मोन का प्रोडक्शन कम या ज्यादा मात्रा में होने लगता है तो लोग थायरॉयड की बीमारी से ग्रस्त हो जाते हैं। थायरइड दो तरह के होते हैं। हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायराइडिज्म, यह दोनों स्थितियां अलग- अलग बीमारी के कारण होती हैं, जो थायराइड ग्लैंड को प्रभावित करने का काम करती हैं।

थायरॉइड को कम करने वाले फूड
डाइट एक्सपर्ट डॉक्टर रंजना सिंह कहती हैं कि एक पौष्टिक और संतुलित आहार के साथ दवाएं लेने से थायरॉइड के लक्षणों को कम किया जा सकता है। आपको डाइट में आयोडिन, कैल्शियम और विटामिन डी वाली चीजें शामिल करनी चाहिए। इस खबर में हम आपको ऐसे 4 फ्रूट्स के बारे में बता रहे हैं, जिसका सेवन कर थायराइड के लक्षण को कम कर सकते हैं।

1। अनानास का सेवन
अनानास में विटामिन सी और मैंगनीज की भरपूर मात्रा होती है। ये दोनों पोषक तत्व शरीर को फ्री रेडिकल्स से सुरक्षित रखने में मदद करता है। इसमें विटामिन बी की भरपूर मात्रा होती है, जो थकान को दूर करने में मदद करता है। अनानास कैंसर, ट्यूमर और कब्ज के मरीजों के लिए भी फायदेमंद होता है।2। सेब का सेवन
सेब सेहत के लिए बेहद लाभकारी है। रोजाना एक सेब खाना से वजन को कंट्रोल किया जा सकता है। ब्लड शुगर को मेंटेन करने के साथ यह थायराइड ग्लैंड को मैनेज करने में भी मदद करता है। इसके अलावा यह कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद करता है। ये मोटापा, डायबिटीज, और हृदय रोग के खतरे को भी कम करता है।

3। जामुन (बैरिज) का सेवन
जामुन में एंटी ऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा होती है, जो थायराइड के लिए फायदेमंद होता है। जामुन में विटामिन और मिनरल्स की भरपूर मात्रा होत है, जो फ्री रेडिकल्स को दूर करने में मदद करता है। थायराइड में डायबिटीज और वजन बढ़ना आमबात है। स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी और रास्पबेरी को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

4। संतरे का सेवन
संतरे का सेवन सेहत को कई बीमारियों से दूर रखने में हेल्प करता है। इसमें विटामिन सी और एंटी ऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा होती है, जो फ्री रेडिकल्स को दूर रखने में मदद करता है। विटामिन सी इम्युनिटी को बूस्ट करने में मदद करता है। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल के लेवल को नियंत्रित रखने में मदद करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button