भारी नुकसान! हमीरपुर में हुए ओलावृष्टि से किसानों का काफी नुकसान

अति ओला वृष्टि को कैसे किसान टार्च की रोशनी में इक्कठा कर अपने अपने घरों से बाहर फेंक रहे है। इस ओलो से किसान बेहाल हो गए है।

हमीरपुर। जिले में बेमौसम हुयी बरसात और ओला वृष्टि से इलाके में ओलो की सफ़ेद चादर बिछ गई। आधा दर्जन गांवों और मजरों में ओले गिरने से हजारो एकड़ फसले बर्बाद हो गयी है और किसानो को करोडो रुपया का नुकसान हुआ है। ये देखिये कैसे ओलो से पूरी जमीन सफ़ेद हो गयी है। पूरे इलाके में बर्फ की सफ़ेद चादर बिछी हुई है। अति ओला वृष्टि को कैसे किसान टार्च की रोशनी में इक्कठा कर अपने अपने घरों से बाहर फेंक रहे है। इस ओलो से किसान बेहाल हो गए है। इलाके के किसानो का कहना है की इस वक्त फसलों में फलियाँ लग गयी है। फूल भी लगा है। पानी और ओलो से इन फसलों को भरी नुकसान हुआ है।

आज हमीरपुर जिले के आधा दर्जन गांवों में पानी के साथ जोर दार ओले गिरे है। जिससे जमीन में सफ़ेद चादर बिछ गई है। ओले गिरने से खड़ी फसलों को भरी नुकसान हुआ है अरहर ,मटर ,लाही की फसले जमीन में गिर गई है। किसानो ने बताया कि ओले इतने ज्यादा गिरे की पूरी जमीन में ओलो की सफ़ेद चादर बिछ गयी है। जिससे हजारो एकड़ फसलों को नुकसान हुआ है।आज की इस ओला वृष्टि से किसानो को करोडो रुपया का नुकसान हुआ है।

इसे भी पढ़ें – सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर भाजपा में शामिल होने से पहले कह दी ये बात….

भारी मात्रा में बारिश के साथ हुयी ओला वर्षी से किसानो को हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए जिलाधिकारी के आदेश पर अधिकारी गांव पहुँचकर मौका मुआयना कर रहे है और फसलों में हुए नुकसान का जायजा लेकर पीड़ित किसानो को उचित मुवावजा दिलवाने का आश्वाशन दिया जा रहा है।

कुछ भी हो बुन्देलखंड के किसानो पर दैवीय आपदाओं का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है जाह्न पिछले पांच वर्षों में सूखे ने किसानो की कमर तोड़ कर रख दी थी। जैसे ही वो उबरने के मंसूबे पाल रहे थे वैसे ही फिर जोर दार बारिश और ओलावृष्टि से कर दिया कई फसलो का सत्य नाश. अब आने वाले समय में शायद फिर किसानो के समक्ष निवाले का संकट गहराने वाला है।

रिपोर्टर – मुकेश कुमार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button