Monday, June 17, 2024
होमस्वास्थ्यHealth - Meerut News: आज विश्व तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर...

Health – Meerut News: आज विश्व तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर Meerut में समाचार

विश्व तंबाकू निषेध दिवस आज: तंबाकू से बढ़ रहा मुख कैंसर…एक-एक कश खतरनाक

विश्व तंबाकू निषेध दिवस आज

तंबाकू से बढ़ रहा मुख कैंसर…एक-एक कश खतरनाक

– हर साल 31 मई को मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस

माई सिटी रिपोर्टर

मेरठ। फेफड़ों के कैंसर, मुंह का कैंसर, गले का कैंसर, जीभ का कैंसर, पेट का कैंसर, किडनी का कैंसर और अन्य कैंसर तंबाकू के कारण ही होते हैं। ई सिगरेट या वैपिंग उतनी ही खतरनाक है जितना सिगरेट पीना।

हर साल 31 मई को नो टोबैको डे यानी विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। इस दिन का खास मकसद लोगों को तंबाकू से सेहत को होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करना है।

वरिष्ठ कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. उमंग मित्तल का कहना है कि मेरठ में हर महीने करीब 80 से 100 नए कैंसर के मरीज आते हैं। इनमें 40 से 50 तंबाकू उत्पाद के कारण कैंसर से पीड़ित होते हैं। 75 प्रतिशत लोगों को 14-15 साल की उम्र यह लत लग जाती है। महज तीन सेकंड में इसकी लत लग सकती है, लिहाजा एक कश भी खतरनाक है।

तंबाकू के 250 प्रकार हैं और किसी भी प्रकार के तंबाकू में पांच से सात हजार तक हानिकारक रासायनिक तत्व मौजूद होते हैं जिनमें से 30 से 70 रसायन कैंसर करने की क्षमता रखते हैं।

भारत में सभी प्रकार के कैंसर में मुख का कैंसर तीसरे नंबर पर आता है। भारत में तंबाकू सेवन करने वाले प्रत्येक 100 लोगों में से करीब 40 लोगों को मुख का कैंसर होता है। ज्यादातर मुख के कैंसर का काफी देर से पता चलने के कारण इसका सफल इलाज नहीं किया जा पाता है।

तंबाकू से निजात पाना नामुमकिन नहीं

जिला अस्पताल में तंबाकू सेवन करने वालों की काउंसिलिंग करने वाले चिकित्सक डॉ कमलेंद्र किशोर का कहना है कि तंबाकू की लत से निजात पाना मुश्किल है पर नामुमकिन नहीं। सिर्फ 15 दिन मेहनत करके इस आदत को छोड़ सकते हैं। जरूरत है पक्के इरादे की।

सबसे खतरनाक तंबाकू का रूप है धूम्रपान

छाती-सांस रोग विशेषज्ञ व पूर्व आईएमए अध्यक्ष डॉ वीरोत्तम तोमर ने बताया कि सबसे खतरनाक तंबाकू का धूम्रपान के रूप में उपयोग है। तंबाकू का असर दिमाग पर सिगरेट पीने से मात्र 10 सेकंड में होना शुरू हो जाता है इससे व्यक्ति में इसकी लत जल्दी पड़ जाती है। शराब, हेरोइन, गांजा आदि की तुलना में तंबाकू की लत काफी जल्दी पड़ती है। रोजाना एक सिगरेट धूम्रपान करने वालों में उम्र भर में कैंसर का खतरा करीब 17 प्रतिशत तक होता है जबकि धूम्रपान न करने वालों में यह खतरा मात्र एक प्रतिशत होता है।

तंबाकू के खतरों से जागरूक करने के लिए मिनी मैराथन आज

मेरठ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) मेरठ ब्रांच के चिकित्सक कई स्कूल-कॉलेजों के साथ मिलकर शुक्रवार को मिनी मैराथन (10 किलोमीटर) का आयोजन करेंगे। इसके जरिए तंबाकू के खतरों से जागरूक किया जाएगा। आईएमए अध्यक्ष डॉ. संदीप जैन ने बताया कि मिनी मैराथन सुबह पांच बजे सर्किट हाउस से शुरू होकर कैलाश प्रकाश स्टेडियम, कमिश्नरी चौराहा, माल रोड, गांधी बाग टैंक चौराहा, मैसोनिक लॉज, जीरो माइलस्टोन शिवाजी स्मारक, मेट्रो अस्पताल, मेरठ कॉलेज, रघुनाथ गर्ल्स डिग्री कॉलेज, बच्चा पार्क होते हुए आईएमए हॉल पर खत्म होगी।

इस विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर, हम सभी को तंबाकू के हानिकारक प्रभावों से जागरूक होना चाहिए और इस खतरनाक आदत से दूर रहने के लिए सक्रिय रूप से काम करना चाहिए। तंबाकू से बचना हमारी सेहत के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

जय हिंद।

[आपका नाम] – ब्लॉग लेखक

RELATED ARTICLES

सबसे लोकप्रिय