Farmers Protest: बैठक के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसान नेता, बोले- आंदोलन खत्म करना सरकार पर निर्भर

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ कड़ाके की ठंड के बावजूद दिल्ली की सीमाओं पर डट किसानों (Farmers) का आज (सोमवार) 40वां दिन है।

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ कड़ाके की ठंड के बावजूद दिल्ली की सीमाओं पर डट किसानों (Farmers) का आज (सोमवार) 40वां दिन है। कई दौर की बैठक होने के बाद भी कोई नतीजा न निकलने पर सरकार और किसान संगठनों के बीच आज दोपहर वार्ता होनी है। इस बैठक के लिए किसान विज्ञान भवन पहुंच चुके हैं। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और अन्य मंत्री भी विज्ञान भवन पहुंचने वाले हैं।

कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को आशा…

वहीं, किसानों (Farmers) के साथ होने वाली बैठक से पहले कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा है कि उन्हें आशा है कि आज समस्या का कोई समाधान जरूर निकलेगा। हम बैठक में हर मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

ये भी पढ़ें – Farmers Protest: सरकार और किसानों के बीच अहम बैठक, कृषि मंत्री ने जताई ये उम्मीद…

Farmers
सरकार और किसानों के बीच अहम बैठक

आज की बैठक में उम्मीद

बता दें कि 30 दिसंबर को सरकार को किसान संगठनों (Farmers) के बीच बैठक आयोजित हुई थी, जिसमें बिजली बिल और पराली बिल को लेकर सहमति बनी थी। ऐसी आशंका जताई जा रही हैं कि सोमवार की दोपहर दो बजे होने वाली इस बैठक में एमएसपी को लेकर सहमति बन सकती है। वहीं, दूसरी ओर किसान संगठनों ने साफ कह दिया है कि जब तक सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती है, तब तक वह डटे रहेंगे।

ये भी पढ़ें – पीलीभीत: दलित महिला के घर में घुस कर पड़ोसी ने कर डाला ऐसा काम …..

Farmers
सरकार और अन्नदाताओं के बीच अहम बैठक

किसान संगठनो की मांगे…

आपको बता दें कि अब भी किसान (Farmers) संगठनो की दो मुख्य मांगे हैं। पहली मांग है कि सरकार तीनों कृषि कानूनों को रद्द करे और दूसरी मांग है कि फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी MSP पर कानून बनाए, लेकिन सरकार कानूनों को वापस लेने के लिए तैयार नहीं है।

farmers

ये भी पढ़ें – नेशनल मेट्रोलॉजी कॉन्क्लेव में बोले PM मोदी- देश को दो कोरोना वैक्सीन देने वाले वैज्ञानिकों पर हमें गर्व

अब तक 60 किसान गवां चुके हैं अपनी जिंदगियां

वहीं, गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सोमवार को कहा कि अब तक 60 किसान (Farmers) अपनी जिंदगियां गंवा चुके हैं। हर 16 घंटे में एक किसान मर रहा है। यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह जवाब दे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button