आजमगढ़ : बिजली व्यवस्था हुई बेपटरी, शुरू होने के नौ महीने बाद ही बंद हो गई उपकेंद्र से आपूर्ति

पुरानी जेल के सामने बिजली विभाग ने नया उपकेंद्र बनाया है। इससे क्षेत्र में आपूर्ति होती है। मगर इसके शुरू होने के नौ महीने बाद ही विद्युत आपूर्ति पिछले 11 दिनों से बाधित है।

पुरानी जेल के सामने बिजली विभाग ने नया उपकेंद्र बनाया है। इससे क्षेत्र में आपूर्ति होती है। मगर इसके शुरू होने के नौ महीने बाद ही विद्युत आपूर्ति पिछले 11 दिनों से बाधित है। जिसके चलते इस उपकेंद्र से जुड़े तीनों फीडरों की बिजली व्यवस्था चरमरा गई है। जिसका प्रभाव शहर के अन्य क्षेत्रों में भी देखने को मिल रहा है। उपकेंद्र के बाधित हो जाने से लोग विभाग पर निर्माण में भ्रष्टाचार का आरोप भी लगाने लगे है।

शहर की बिजली व्यवस्था को दुरुस्त करने व ओवरलोड के चलते होने वाले फाल्ट व कटौती से शहर को निजात दिलाने के लिए बिजली विभाग ने पुराने जेल के सामने 33 केवी सब स्टेशन स्थापित कराया था। लगभग चार करोड़ की लागत से स्थापित इस उपकेंद्र के बन जाने के बाद भी लगभग साल भर तक इसे विभाग चालू नहीं कर सका था। नवंबर 2020 में विभाग इससे बिजली की आपूर्ति शुरू किया। तीन फीडर इससे जोड़े गए, जिसमें कलेक्ट्रेट कार्यालय फीडर, हरवंशपुर फीडर व लालडिग्गी फीडर शामिल है। इस सब स्टेशन के शुरू हो जाने के बाद शहर क्षेत्र की बिजली व्यवस्था में कुछ सुधार भी हुआ था लेकिन शुरू होने के नौ माह बाद ही यह सब स्टेशन बैठ गया है। करीब 11 दिनों से इस सब स्टेशन से बिजली व्यवस्था बाधित है। जिससे इससे जुड़े फीडरों को अन्य सब स्टेशनों से जोड़ कर चलाया जा रहा है जिसके चलते अंधाधुंध बिजली कटौती हो रही है और अगर बिजली आ भी रही है तो लो वोल्टेज की समस्या बनी हुई है। विद्युत विभाग के अधिशासी अभियंता अरविंद सिंह ने बताया कि विगत 11 जुलाई को केवल आउट हो गई थी जिसकी वजह से उस समय के लिए दिक्कत हुई लेकिन इस समय सप्लाई चालू है, उन्होंने सब स्टेशन के निर्माण में खामियां होने की बातों से इनकार किया, बताया कि शहर में गैस पाइप लाइन का काम चल रहा है जिसकी वजह से कई बार केबल फॉल्ट हो जा रही है इसके लिए गैस पाइपलाइन कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर से बात की गई लेकिन वह सहयोग नहीं कर रहा है, जिसकी जानकारी जिला प्रशासन और पुलिस को भी दे दी गई है लेकिन अभी समस्या का हल नहीं निकला।

Report- aman Gupta

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button