14 दिसंबर के दिन करें ये खास उपाय, आपके घर में होगी धन-दौलत की बरसात

मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को सोमवती अमावस्या है। यह तिथि इस बार 14 दिसंबर, सोमवार को पड़ रही है।

मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को सोमवती अमावस्या है। यह तिथि इस बार 14 दिसंबर, सोमवार को पड़ रही है। इस दिन का महत्व हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा है। यह दिन भगवान शिव को समर्पित है। इस दिन व्यक्ति अपने मृतक रिश्तेदारों की आत्मा की शांति के लिए पवित्र नदी में डुबकी लगाकर प्रार्थना करते हैं। इस दिन आप ये उपाय फॉलो कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें – आजमगढ़ : साली की शादी में ऐसा नाराज़ हुआ जीजा कि…. मच गयी सनसनी

1. भगवान सूर्यदेव की पूजा 14 दिसंबर 2020 को अमावस्या के दिन स्नान आदि करने के बाद में आप तांबे के लोटे में जल भरे। और उसमें गंगाजल, अक्षत और लाल पुष्प डालें। तथा भगवान सूर्यदेव को जल अर्पण करें। भगवान सूर्यदेव को जल देने से पुत्र, धन, सुख, समद्धि आदि सबकुछ प्राप्त हो जाता है। इस दिन सूर्यग्रहण शाम 07:10 बजे से प्रारंभ होगा। और रात्रि 12:23 बजे पर समाप्त होगा। यह ग्रहण वर्ष 2020 का अंतिम सूर्यग्रहण है। इस उपाय को करने के बाद वर्ष 2021 में आपको कई बड़ी कामयाबी मिलेंगी। और भगवान सूर्यदेव का आशीर्वाद प्राप्त होगा।

2. ग्रहण काल का उपाय सूर्य ग्रहण जिस समय पड़ रहा हो, यानि 14 दिसंबर 2020 को शाम के समय के बाद रात्रि में ग्रहण काल के दौरान आप भगवान के समाने घी का दीपक जलाकर किसी भी मंत्र का जप करें। हालांकि यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। लेकिन फिर भी आप धन प्राप्ति के लिए, रोग निवारण के लिए, पितृ शांति के लिए और पुत्र प्राप्ति के लिए मंत्र का जप कर सकते हैं। इस दौरान आप जिस भी मंत्र अथवा देवता की पूजा करेंगे। वह मंत्र शीघ्र फलीत होगा और वह देवता भी आपकी मनोकामना को पूर्ण करेगा। और इस दौरान किए गए मंत्र जप का प्रभाव भी आपके जीवन में अधिक दिखाई देगा। तथा ग्रहण समाप्त होने पर आपको गेहूं और नारियल का दान भी अवश्य करना चाहिए। तथा आप चावल भी दान कर सकते हैं। गेहूं, नारियल, गुड़ और चावल का दान करना इस दौरान बहुत शुभ माना जाता है।

3. गोमाता की सेवा और पितृों का तर्पण मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन आप गोमाता की सेवा करें। इस दिन आप गोमाता को स्नान कराकर कुछ भोजन, चारा इत्यादि कुछ ना कुछ अवश्य खिलाएं। और उसके बाद में आप पितृों का तर्पण करें। और तर्पण के दौरान अपने पितृों का ध्यान करते हुए कामना करें कि आपके द्वारा किया हुआ तर्पण आपके पितृ स्वीकार करें। इस उपाय को करने से आपके पितृ दोष का निवारण हो जाएगा। और आपके पितृ प्रसन्न होंगे। और आपकी प्रत्येक मनोकामना को पितृ पूरी करते हैं। अमावस्या और सूर्यग्रहण के ये तीनों उपाय आप जरुर करें। यह उपाय बहुत ही प्रभावी उपाय हैं। जिनकों करने से आपकी समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। और आपके घर में धन-धान्य, संतान, सुख, वैभव, ऐश्वर्य, यश की वृद्धि होती है।

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button