धनतेरस: कुबेर के ये 3 मंत्र हैं बहुत चमत्कारी….

दुनिया भर के लोग इन दिनों दिवाली का इंतजार कर रहे हैं। बाजार गुलजार और घरों में जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं।

दुनिया भर के लोग इन दिनों दिवालीका इंतजार कर रहे हैं। बाजार गुलजार और घरों में जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं। अपने करीबियों के लिए लोग इन दिनों गिफ्ट्स और मिठाइयां खरीदते दिख रहे हैं। दिवाली का पर्व धनतेरस से शुरू होता है। दो दिन बाद ही कुबेर भगवान का त्यौहार धनतेरस है। इस बार शुक्रवार यानी कि 13 नवंबर को धनतेरस का त्यौहार है। धनतेरस दो शब्दों से मिलकर बना है धन + तेरस इसका अर्थ है धन।

यह भी पढ़े: यूपी बोर्ड की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्र-छात्राओं के लिए बेहद जरुरी खबर

धनतेरस के दिन कुबेर के 3 चमत्कारी मंत्र जरूर पढ़ें…

कुबेर धन प्राप्ति –

1. ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः॥
कुबेर अष्टलक्ष्मी मंत्र

2. ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम गृहे धनं पुरय पुरय नमः॥
कुबेर मंत्र

3. ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये
धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय दापय स्वाहा॥

धनतेरस से जुड़ी पढ़ें ये एक पौराणिक कथा-
एक पौराणिक कथा के अनुसार, धनतेरस हिम नाम के एक राजा के बेटे के श्राप से संबंधित है। कहते हैं कि राजा हिम के बेटे को श्राप था कि शादी के चौथे दिन ही उसकी मृत्यु हो जाएगी। जब इस बात की जानकारी राजकुमार की पत्नी को हुई तो उसने एक योजना बनाई। उसने पति से शादी के चौथे दिन जगे रहने के लिए कहा। पति कही सो न जाएं इसके लिए वह लगातार गीत-कहानियां सुनाती रही। उसके बाद उसने दरवाजे पर सोने-चांदी और कई बहुमूल्य वस्तुएं भी रख दीं। घर के आसपास दीपक भी जलाएं। यम सांप के रूप में राजा हिम के बेटे की जान लेने के लिए आए और गहनों और दीपक की चमक से अंधे हो गए। वह घर में प्रवेश नहीं कर सके। वह गहनों के ढेर पर ही बैठे रहे और गीतों को सुनते रहे। सुबह होने पर यमराज राजकुमार की जान लिए बिना ही चले गए, क्योंकि राजकुमार के मृत्यु की घड़ी बीत चुकी थी।

  • हमें फेसबुक पेज को अभी लाइक और फॉलों करें @theupkhabardigitalmedia 

  • ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @theupkhabar पर क्लिक करें।

  • हमारे यूट्यूब चैनल को अभी सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/c/THEUPKHABAR

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button