दिल्ली आईईडी ब्लास्ट की इस आतंकी संगठन ने ली जिम्मेदारी, जांच में जुटीं खुफिया एजेंसी

इस धमाके की जिम्मेदारी जैश-उल हिंद नाम के संगठन ने ली है. इस संगठन ने दावा किया है कि, इजराइली दूतावास के पास जो आईईडी ब्लास्ट हुआ है उसे जैश-उल हिंद ने करवाया है.

दिल्ली (delhi) में शुक्रवार को इजराइली दूतावास के पास हुए आईईडी विस्फोट के बाद पुलिस और खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई हैं. दिल्ली पुलिस ने शनिवार की सुबह घटनास्थल का दौरा किया. पुलिस घटना की जांच में जुटी हुई है. घटनास्थल पर एक नोट भी मिला है. जिसमें लिखा है कि, ये एक ट्रेलर था. इसके साथ ही लेटर में दो ईरानियों की हत्या का भी जिक्र किया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस विस्फोट के पीछे ईरान का हाथ बताया जा रहा है. दिल्ली पुलिस विस्फोट को लेकर गहनता से जांच कर रही है.

इस धमाके की जिम्मेदारी जैश-उल हिंद नाम के संगठन ने ली है. इस संगठन ने दावा किया है कि, इजराइली दूतावास के पास जो आईईडी ब्लास्ट हुआ है उसे जैश-उल हिंद ने करवाया है. जिसके बाद खुफिया एजेंसियां इस दावे की सत्यता की जांच में जुट गई है. बता दें कि, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टेलीग्रीम पर एक चैट पाया गया है जिसमें कहा गया है कि, अल्लाह की दुआ और मदद से जैश-उल हिंद के सैनिकों ने दिल्ली के हाई सिक्योरिटी जोन में आईईडी ब्लास्ट करने में कामयाब रहे. आगे लिखा गया है कि, ये तो अभी शुरूआत है. इसके अलावा भारत के कई बड़े शहरों में धमाके किए जाएंगे. इंतजार कीजिए हम भी कर रहे हैं.

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इजरायल (israel) की खुफिया एजेंसी मोसाद भारत के लिए रवाना हो चुकी है. मोसाद इजराइली दूतावास के पास हुए आईईडी विस्फोट की जांच करने के लिए आ रही है.

वहीं इस विस्फोट के तार ईरान से इसलिए भी जुड़ते दिखाई दे रहे हैं क्योंकि ये विस्फोट इजराइली (israel) दूतावास के पास हुआ है. 30 नवंबर को ईरान के एक परमाणु वैज्ञानिक की हत्या की गई थी. जिसमें इजरायल का हाथ बताया गया था. ईरान के राष्ट्रपति रुहानी ने सीधे तौर पर इजरायल पर आरोप लगाए थे. वहीं 2012 में इजरायल (israel) के राजनयिक की कार पर हमला किया गया था. उसमें भी ईरान से इस हमले के तार जुड़े हुए पाए गए थे. इस घटना में दिल्ली के एक पत्रकार को गिरफ्तार भी किया गया था. जो ईरान की एक न्यूज एजेंसी के लिए काम करता था.

यह भी पढ़ें- दिल्ली आईईडी विस्फोट: ईरान से जुड़ रहे तार, लेटर में कहा ये तो ‘ट्रेलर’ था

2012 में हुए कार पर हमले को लेकर इजरायल (israel) की टॉप खुफिया एजेंसी मोसाद ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल भारतीय खुफिया एजेंसियों की मदद की थी. ऐसा भी कहा जाता है कि, मोसाद की टिप-ऑफ से ही मामले का खुलासा हो पाया था.

वहीं दूतावास के पास हुए आईईडी विस्फोट के बाद भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने इजरायल (israel) के विदेश मंत्री गाबी अश्केनाज से फोन पर बात कर उन्हें इजरायल के राजनयिकों की सुरक्षा का आश्वासन दिया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button