सहारनपुर : संचारी रोग नियंत्रण अभियान के लिए आमजन का सहयोग जरूरी – माहपौर

सहारनपुर नगर नगिम के महापौर संजीव वालिया ने कहा कि संचारी रोगों से लड़ने के लिए आमजन का सहयोग जरूरी है।

सहारनपुर नगर नगिम के महापौर संजीव वालिया ने कहा कि संचारी रोगों से लड़ने के लिए आमजन का सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए चलाये जा रहे इस अभियान को सफल बनाने के लिए आमजन को जागरूक करने के लिए सभी की जिम्मेदारी है।

ये भी पढ़ें – शबनम को किया गया शिफ्ट बरेली जिला जेल, पढिए आखिर कौन हैं वायरल फोटो वाली दूसरी महिला

उन्होंने कहा कि अभियान को सफल बनाने के लिए सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को शपथ ग्रहण कराई गयी तथा अभियान के बारे में जानकारी दी गयी। संचारी रोग नियंत्रण अभियान एवं दस्तक अभियान के अन्तर्गत महापौर श्री संजीव वालिया द्वारा संचारी रोग नियंत्रण अभियान के लिए जनजागरूकता रैली को रिवैम्पिंग केन्द्र नेहरू मार्किट पुराना अस्पताल से हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया । उन्होंने उपस्थितजनों को शपथ दिलाते अभियान के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि नोडल विभाग चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में अभियान को पूरी गति से चलाया जायेंगा। इस अभियान का उदद्ेश्य संचारी रोगों पर नियंत्रण हेतु जनता को जागरूक करना एवं रोगों से कैसे बचा जा सकता है के लियेे प्रेरित करना है तथा पूर्व वर्षों में भी मनाये जाने से प्रदेश में अब संक्रामक रोगों में काफी गिरावट आई है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 बी0एस0 सोढी द्वारा बताया गया कि इस अभियान में जनपद स्तर एवं ब्लाॅक पर ए0एन0एम0, आशा एवं आंगनवाडी के सहयोग से चलाया जायेगा। जनमानस की भागीदारी एवं सहयोग से संचारी रोगों पर पूर्ण नियंत्रण पाया जा सकता है। जनपद एवं ब्लाॅक स्तर पर इस अभियान में संचारी रोग से बचाव हेतु व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार (बेनर, पम्पलेट एवं माकिंग आदि) के लिये समस्त तैयारिया पूर्ण कर ली गयी है।

जिला मलेरिया अधिकारी सहारनपुर श्रीमती शिवाँका गौड द्वारा जानकारी दी गयी कि ग्राम में प्रातः समय में प्रभात फेरी का आयोजन साफ-सफाई, हाथ धोना, शौचालय की सफाई तथा घर से जल निकासी हेतु जन-जागरण के लिये प्रचार प्रसार, प्रधान वी0एच0एस0एन0सी0 के माध्यम से संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार के रोकथाम हेतु ‘‘ क्या करें क्या न करें‘ का सघन प्रचार-प्रसार किया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा फण्ड से फाॅगिंग की व्यवस्था की जायेगी तथा स्वास्थ्य शिक्षा के अन्र्तगत क्या करें क्या न करें‘‘ की जानकारी दी गयी तथा डब्लू0एच0ओ0/डी0एम0सी0 द्वारा इस अभियान का सर्वेलेन्स किया जायेगा। जिसकी रिर्पोट राज्य मुख्यालय को डब्लू0एच0ओ0 द्वारा प्रेषित की जायेगी। समस्त ब्लाॅको पर अभियान का शुभारम्भ विधायक, ब्लाॅक प्रमुख एवं ग्राम प्रधान द्वारा किया जायेगा। इस दौरान नुक्कड नाटक का भी आयोजन किया गया। रैली में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 संजय यादव, डी0टी0ओ0 डा0 राजेश जैन, जिला मलेरिया अधिकारी श्रीमती शिवाँका गौड, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा0 कुनाल जैन, एपिडेमियोलोजिस्ट डा0 पंकज कुमार, पशुपालन विभाग से डा0 राजीव कुमार शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आशा त्रिपाठी, कु0 अंजू वी0डी0डी0 कन्शलटैन्ट,धर्मेन्द्रपाल सिंह एम0आई0, कु0 शिवानी एम0आई0,अरविन्द ए0आर0ओ0,पवन कुमार ए0आर0ओ0 राजेश रोहिला आदि के साथ ही विभिन्न विभाग जैसे पशुपालन विभाग, पंचायत विभाग, नगर निगम आदि की गाडिया, फोगिंग मशीन के वाहन तथा आशा, आगंनवाडी कार्यकत्री, ए0एन0एम0 भी शामिल रहे।

क्या करें

1.दिमागी बुखार का टीका जरूर लगवाएं।
2. मच्छरों के काटने से बचें मच्छरदानी, मच्छर, अगरबत्ती या काॅयल वगैरह का प्रयोग करें। पूरे आस्तीन की कमीज, फुल पैट मोजे पहनें।
3. सुअरों को घर से दूर रखें। रहने की जगह साफ सुथरा रखें एवं जाली लगवायें।
4. पीने के लिए इंडिया मार्का हैण्ड पम्प के पानी का प्रयोग करें। पानी हमेशा ढक कर रखें छिछला हैण्ड पम्प के पानी को खाने पीने में प्रयोग न करें।
5.पक्के व सुरक्षित शौचालय का प्रयोग करे।
6.शौच के बाद व खाने के पहले साबुन से हाथ अवश्य धोये।
7. नाखूनों को काटतें रहें। लम्बे नाखुनों से भोजन बनाने व खाने से भोजन प्रदूषित होता है।
8.दिमागी बुखार के मरीज को दाएं या बाएं करवट लिटाएं। यदि तेज बुखार हो तो पानी से बदन पोछते रहे।

क्या न करें
-9.बेहोशी व झटके की स्थिति में मरीज के मुॅह में कुछ भी नही डालें।
10.झोला छाप डाक्टरों के पास ना जायें।11.घर के आस पास गंदा पानी इकट्ठा न होने दें।
12.इधर-उधर कूडा-केचरा व गंदगी न फेलायें।
13.खुले मैदान या खेतों में शौच न करें।

रिपोर्ट-राहुल भारद्वाज

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button