आजमगढ़ : कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने अलग-अलग धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

सरकार पर तमाम आरोपों को लगाकर इस समय संसद से लेकर सड़क पर इस समय संग्राम छिड़ा हुआ है।

सरकार पर तमाम आरोपों को लगाकर इस समय संसद से लेकर सड़क पर इस समय संग्राम छिड़ा हुआ है। 1 दिन पूर्व मीडिया चैनल व अखबार के दफ्तरों पर आईटी रेट व पिछले दिनों तमाम राजनीतिक नेताओं के फोन टैप किए जाने के मामलों को लेकर आज आजमगढ़ में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी नेअलग-अलग धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और प्रशासन के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा गया।

कांग्रेस पार्टी व समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालयों से अलग-अलग जुलूस की शक्ल में निकले नेताओं और कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट क्षेत्र में प्रदर्शन किया और सरकार विरोधी नारे लगाए। आरोप लगाया गया कि केंद्र व राज्य की सरकार की तरफ से लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। सरकार की अनियमितता की आवाज उठाने वालों का गला दबाया जा रहा है। तमाम राजनीतिक विरोधियों का उत्पीड़न किया जा रहा है। उनके ऊपर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। यह बर्दाश्त से बाहर हो गया है। जिस प्रकार से संसद में केंद्र सरकार के एक मंत्री ने गैर जिम्मेदाराना बयान दिया कि ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत देश में नहीं हुई यह बहुत बड़ा सवाल लोगों के दिलों में है। सभी को मालूम है कि अगर समय से ऑक्सीजन मिल जाती तो कितने लोगों की जान बच जाती। लेकिन सरकार अपनी इस कमी को छिपाना चाह रही है। जिस चैनल ने इस पर डिबेट कराई उसके यहां छापा मरवा दिया गया। कांग्रेस पार्टी के जिला उपाध्यक्ष बिलाल अहमद ने आरोप लगाया कि जिस प्रकार से नेताओं व मीडिया की जासूसी कराई जा रही हैं इससे लोकतंत्र खतरे में है। इसके जिम्मेदार गृह मंत्री अमित शाह को तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए। यही उनकी मांग है और कांग्रेस पार्टी इसी को लेकर धरना प्रदर्शन कर रही है। वहीं सपा विधायक संग्राम यादव ने आरोप लगाया कि समाजवादी पार्टी संसद, विधानसभा में व सड़क पर लगातार आवाज उठा रही है। पार्टी के कार्यकर्ताओं पर सरकार की तरफ से झूठे मुकदमे कराए जा रहे हैं यह सरकार तानाशाही की है।

Report- Aman Gupta

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button