अमेठी : डॉक्टर की लापरवाही से मरीज की हुई मौत

अमेठी में डाक्टर की बड़ी लापरवाही सामने आई हैं जहाँ लोग डाक्टर को भगवान मानते हैं और डॉक्टर के ऊपर भरोसा रखते हैं वहीं डाक्टर की लापरवाही के चलते एक निजी अस्पताल में आपरेशन के दौरान अधेड़ मरीज की मौत हो गई।

अमेठी में डाक्टर की बड़ी लापरवाही सामने आई हैं जहाँ लोग डाक्टर को भगवान मानते हैं और डॉक्टर के ऊपर भरोसा रखते हैं वहीं डाक्टर की लापरवाही के चलते एक निजी अस्पताल में आपरेशन के दौरान अधेड़ मरीज की मौत हो गई। आपरेशन के दौरान अधेड़ मरीज की मौत से हड़कंप मच गया, आपरेशन के दौरान पांच घंटे के बाद डाक्टर बोला मरीज मर गया है गाड़ी लाओ और इसे ले जाओ,यह सुनते ही मरीज के परिजनों मे कोहराम मच गया, अधेड़ की मौत से नाराज परिजनों ने हास्पिटल में जमकर हंगामा काटा। अंत में पुलिस ने मामले में हस्तक्षेप किया और परिजनों की तहरीर पर हास्पिटल संचालक के विरूद्ध मुकदमा कायम किया तब कहीं जाकर परिजनों का गुस्सा शांत हुआ। पुलिस ने मृत अधेड़ के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।और मामले की जांच में जुट गई है।

ये भी पढ़ें – हिंदू युवती ने एक मुस्लिम युवक पर लगाए ये गंभीर आरोप, सुनकर उड़ जायेंगे आपके होश

जानकारी के अनुसार, मामला जगदीशपुर कोतवाली क्षेत्र के राधेश्याम हास्पिटल से का है जहाँ पर बाजार शुकुल थाना क्षेत्र के खुदावन का पुरवा के निवासी रामदत्त (52) वर्ष को हर्निया का ऑपरेशन कराने के लिए परिवार वालों ने इसी हास्पिटल में भर्ती कराया था। चिकित्सकों ने आपरेशन शुरू किया लेकिन डॉक्टर की लापरवाही के चलते रामदत्त की आपरेशन के दौरान मौत हो गई। उसकी मौत से परिवार में कोहराम मच गया, घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मृतक के पुत्र सुनील ने नर्सिंगहोम के चिकित्सक पर आपरेशन करते समय लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए स्थानीय कोतवाली पर तहरीर दी है। इस सम्बंध भुक्तभोगी की तहरीर पर लापरवाह चिकित्सक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर छानबीन व जांच पड़ताल की जा रही है।

मृतक की पुत्री पुष्पा ने बताया कि राधेश्याम हास्पिटल में पिता को आपरेशन के लिए भर्ती कराया गया था। पांच घंटे तक उन्हें आपरेशन थिएटर से बाहर नही निकाला गया। डाक्टर से कहा गया कि हमारा मरीज हमारे पास भेजिए तो उन्होंने कहा अभी आपरेशन चल रहा है। फिर हम लोगों ने गांव से कुछ लोगों को बुलाया तो वो लोग आए और जब आपरेशन थिएटर के अंदर गए तो हमारे पिता का हाथ बंधा हुआ था। तब डाक्टर ने कहा की इनकी मौत हो गई है गाड़ी लाओ और ले जाओ। पूरे मामले पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) आसतोष दूबे ने बताया की पीड़ित पक्ष अभी हमारे कार्यालय में कोई आवेदन पत्र नही दिया है जिसके आधार पर कुछ कहा जा सके। अगर ऐसी लापरवाही की गई है और हमें कोई निर्देश मिलता है तो निष्पक्ष जांच कराकर नियमानुसार कार्यवाही प्रस्तावित करूंगा।

वहीं सीओ मनोज कुमार ने बताया कि मृतक के पुत्र सुनील ने जगदीशपुर थाने में तहरीर दी है जिसमें बताया है कि हार्निया के आपरेशन के लिए पिता को राधेश्याम हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। डाक्टर ने स्वयं आपरेशन किया और लापरवाही बरती गई जिससे पिता की मौत हो गई। थाने पर मुकदमा पंजीकृत कर आगे की कार्यवाही की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button