अखिलेश यादव का सीएम योगी पर तंज, 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी हैं…

नेताओं के दल बदलने का सिलसिला भी जारी है,इन सबके साथ राजनीतिक नेताओं की बयानबाजी और गुटबाजी भी अब सामने आने लगी है.तमाम बागी नेता समाजवादी पार्टी में शामिल .

लखनऊ : पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों का एलान होना शुरू हो गया है.राजनीतिक उठापठक के बीच चुनाव जीतने के लिए राजनीतिक दलों ने पूरी ताकत झोंक दी है। नेताओं के दल बदलने का सिलसिला भी जारी है। इन सबके साथ राजनीतिक नेताओं की बयानबाजी और गुटबाजी भी अब सामने आने लगी है। उत्तर प्रदेश  की राजधानी लखनऊ में समाजवादी पार्टी  ने  रैली की. इस रैली में भारतीय जनता पार्टी के तमाम बागी नेता समाजवादी पार्टी में शामिल हुए।

इस रैली को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव  ने संबोधित भी किया. अपने संबोधन में अखिलेश ने सीएम योगी आदित्यनाथ और बीजेपी पर जमकर तंज कसे. उन्होंने कहा- मुझे लगता है,कि सरकार के लोगों को पहले ही पता लग गया था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ बड़ी संख्या में लोग आ रहे होंगे इसलिए हमारे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही गोरखपुर चले गए, हालांकि उनकी 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी है।

ये भी पढ़े- प्रदेश में पिछड़े वर्ग में पैठ रखने वाले पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, सपा में शामिल…

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि एक के बाद एक बीजेपी के विकेट गिर रहे हैं। लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ क्रिकेट खेलना नहीं जानते। अगर वह क्रिकेट खेलना जानते भी तब भी उनसे कैच छूट गया है. जैसा कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा था कि वह जहां भी जाते हैं, सरकार बनती है, इस बार भी वह अपने साथ भारी संख्या में नेताओं को लेकर आए.

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने छापे पर भी कसा तंज-

उन्होंने कहा कि जो लोग तीन चौथई की बात कर रहे थे, उनकी सच्चाई यह है कि वह तीन और चार सीट की बात कर रहे थे. सपा नेता ने कहा कि जिस समय खाद की जरूरत थी तो सरकार उस समय मुहैया नहीं करा पाई. खाद मिली भी तो उसमें कमी ही रही. भाजपा गरीबों की जेब काटकर अमीरों की तिजोरी भर रही है।

अखिलेश ने कहा कि यह चुनाव फाइनल है. किसी ने नहीं सोचा था कि मौर्य अपनी पूरी टीम के साथ सपा में आ जाएंगे।बीते दिनों कानपुर में पड़े छापे पर तंज कसते हुए सपा नेता ने कहा कि डिजिटल इंडिया की गलती को कौन भूल सकता है… छापे कहीं और पड़ने वाले थे, लेकिन उनके ही घर में पड़ गए. हम विधानसभा चुनाव का इंतजार कर रहे थे. साइकिल बहुत मजबूत है क्योंकि समाजवादी और अम्बेडकरवादी एक साथ आ गए हैं और अब इसे कोई नहीं रोक सकता.

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button