यूपी चुनाव 2022:  जानिए क्या होता है आदर्श आचार संहिता, किन चीजों पर लगता है बैन…

लखनऊ। चुनाव आयोग अगले कुछ दिनों में चुनाव की तारीखों की घोषणा करेगा। चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद राज्य में आचार संहिता लागू हो जाएगी।

लखनऊ। चुनाव आयोग अगले कुछ दिनों में चुनाव की तारीखों की घोषणा करेगा। चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद राज्य में आचार संहिता लागू हो जाएगी। चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों, उनके समर्थकों, कार्यकर्ताओं के साथ-साथ सत्ताधारी दल के प्रतिनिधियों को भी आचार संहिता का पालन करना होगा। आचार संहिता क्या है, क्या किया जा सकता है। हम आपको इसके बारे में बताएंगे…

इसे भी पढ़ें  – पांच राज्यों में होने वाले चुनाव के तारिखों का आज हो सकता है फैसला

आदर्श आचार संहिता क्या है?

आचार संहिता के लागू होते ही चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों और कर्मचारियों के तबादले और पदोन्नति पर भी रोक लगा दी जाती है। इस समय कोई नया विकास कार्य का प्रस्ताव नही जारी किया जा सकता। हालांकि, स्थानान्तरण की संख्या, नए कार्य निर्णय चुनाव घोषित होने से पहले किए जाते हैं, इससे उन्हें प्रभावित नहीं होता है। आचार संहिता इसलिए लागू की गई है ताकि कोई भी धन या शक्ति के माध्यम से लोगों को प्रभावित न कर सके।

इस प्रकार के कृत्य की मनाही

सत्तारूढ़ दल के प्रतिनिधि, उम्मीदवार, उम्मीदवार के चुनाव प्रतिनिधि किसी भी सार्वजनिक उपक्रम, सरकार, अर्ध-सरकारी अवलोकन गृह, डाकघर और किसी अन्य विश्राम गृह का चुनाव प्रचार या चुनाव कार्यालय के लिए उपयोग नहीं करना चाहिए। चुनाव की अवधि के दौरान, सत्तारूढ़ दल के मंत्री आधिकारिक यात्राओं को चुनाव कार्य से नहीं जोड़ेंगे या सरकारी मशीनरी या कर्मचारियों का उपयोग नहीं करेंगे।

सरकारी योजनाओं की घोषणा पर लगती है रोक

केंद्र या राज्य सरकार के मंत्री किसी भी मतदान केंद्र में तब तक प्रवेश नहीं कर सकते जब तक कि वे मतदाता न हों। चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद चुनाव अधिकारियों, कर्मचारियों के तबादलों, नियुक्तियों और पदोन्नति पर पूर्ण रूप से रोक रहेगी। अपरिहार्य परिस्थितियों में स्थानान्तरण, नियुक्ति या पदोन्नति राज्य निर्वाचन आयोग की पूर्वानुमति के बाद ही की जा सकेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button