26 जनवरी की परेड कोरोना महामारी के साये में, इस बार भी नहीं होगा कोई विदेशी मेहमान

इन सभी लोगों को समारोह में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना होगा। जबकि, 2020 में कोरोना महामारी से पहले हुई परेड में 1.25 लोगों को शामिल होने की अनुमति थी।

दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लगातार दूसरे साल राष्ट्रीय गणतंत्र दिवस समारोह कोरोना महामारी के साये में मनाया जाएगा। पिछली साल समारोह महामारी के कम होते मामलों के बीच मनाया गया था तो इस बार मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है।इस साल गणतंत्र दिवस परेड में पिछले साल के 25 हजार लोगों की तुलना में 24 हजार  लोगों को शामिल होने की अनुमति मिलेगी। इन सभी लोगों को समारोह में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना होगा। जबकि, 2020 में कोरोना महामारी से पहले हुई परेड में 1.25 लोगों को शामिल होने की अनुमति थी।

नहीं होगा कोई विदेशी अतिथि

गणतंत्र दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में विदेशी मेहमानों को निमंत्रण देने की परंपरा है। हालांकि, इस बार कोरोना महामारी को देखते हुए कोई विदेशी मेहमान इसमें शामिल नहीं होगा। सूत्रों ने बताया कि इस सरकार ने कजाकिस्तान के राष्ट्रपति कसीम जोमार्ट टोकायव, उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शवकत मिर्जियोयेव, ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति इमोमाली रहमोन, तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहामेदो और किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सदिर जपारोव को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित करने की तैयारी की थी। पिछले साल हुई परेड में भी कोई विदेशी नेता शामिल नहीं हुआ था।

ये भी पढ़ें-  सहारनपुर सामुदायिक शौचालय बनाने के नाम पर 5 लाख से अधिक घोटाला

19 हजार लोगों को भेजा जाएगा निमंत्रण

रक्षा सूत्रों का कहना है कि परेड में इस बार 24 हजार लोगों को शामिल होने की अनुमति है, जिसमें 19 हजार लोगों को निमंत्रण भेजा जाएगा। वहीं बाकी पांच हजार आम जनता होगी, जो टिकट खरीदकर परेड शामिल हो सकते हैं। समारोह प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि सभी सांस्कृतिक प्रतिभागियों और सशस्त्र बलों के जवानों के लिए वैक्सीन की दोनों खुराकें अनिवार्य की गई है।इसके अलावा कार्यक्रम से पहले उन सभी का कोरोना टेस्ट भी किया जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए दर्शकों को छह फीट की दूरी पर बैठाया जाएगा और मास्क अनिवार्य होगा।इसी तरह पूरे समारोह स्थल को सैनेटाइज किया जाएगा और बैठने की जगहों पर सैनिटाइजर डिस्पेंसर लगाए जाएंगे।

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित ये लोग मंच पर बैठेंगे

परंपरा के अनुसार, मंच पर केवल VVIP लोग ही बैठ पाएंगे। इनमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट शामिल होंगे। झांकियों और मार्च पास्ट टीमों की घोषणा सोमवार को की जाएगी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button