Breaking newsFeaturedMain Slideउत्तरप्रदेश

झाँसी में जारी है कोरोना का कहर, संख्या 2000 पार…

This News was published on: 9:10 PM

Corona havoc continues in Jhansi : कोरोना के 24 घण्टो में फिर आये कोरोना के 70 नए मामले। झाँसी में कोरोना मरीजो की संख्या 2166 पहुँची।कोरोना से अब तक हो चुकी है 65 लोगो की मौत। जिसमे से 1180 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं।

Corona havoc continues in Jhansi झाँसी में एक्टिव कैसो की संख्या 921 हुई।
  • कोरोना जाँच के लिए गए थे 1797 सैंपल। झाँसी जिलाधिकारी आंद्रा वामसी ने की पुष्टि।
यूपी : संक्रमण से एक दिन में मरने वालों का बना रिकार्ड
  • कोरोना से एक दिन में हुईं सबसे अधिक 57 मौतें, संक्रमण के 3,705 नए मामले
  • उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 3,705 नए मामले सामने आए.
  • जबकि 57 और मौतों के साथ इस संक्रमण से जान गंवाने वालों का आंकड़ा बृहस्पतिवार को 1,587 हो गया।
  • प्रदेश में मौत के 57 मामले किसी एक दिन में मृतकों का सबसे बड़ा आंकड़ा है।
  • संक्रमण के 3,705 मामलों का आंकड़ा भी एक दिन में सर्वाधिक है।
अपर मुख्य सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद :-
  • पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 3,705 नए मामले सामने आए जबकि 57 लोगों की मौत हो गई।
  • अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अब तक कुल 46, 803 लोग पूरी तरह होकर अस्पतालों से घर जा चुके हैं।
  • संक्रमण के उपचाराधीन मामलों की संख्या 32, 649 है.
  • जबकि कोरोना संक्रमण की वजह से कुल 1,587 लोगों की जान गयी है।
  • उन्होंने बताया कि पृथक वार्डों में 32, 652 लोग हैं.
  • जिनका विभिन्न चिकित्सालयों एवं मेडिकल कालेजों में उपचार किया जा रहा है।
  • पृथकवास केन्द्रों पर 2,938 लोग हैं, जिनके नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं।
7,198 लोग होम आइसोलेट, 1,112 लोग निजी अस्पताल में:-
  • अपर मुख्य सचिव ने बताया कि उपचाराधीन मामलों में से 7,198 लोग घर में पृथक-वास में हैं.
  • जबकि 1,112 लोग निजी अस्पताल में इलाज करा रहे हैं।
  • उन्होंने कहा कि जब से गृह पृथक-वास की व्यवस्था शुरू की गयी है.
  • तब से बहुत से लक्षणमुक्त रोगी इसका लाभ उठा रहे हैं।
  • अमित प्रसाद ने बताया कि जो समय से संक्रमण की जांच करा लेते हैं और समय से अपनी चिकित्सा शुरू करा लेते हैं.
  • उन्हें इस संक्रमण से कोई परेशानी नहीं देखी जा रही है.
  • लेकिन जो बीमारी छिपाते हैं, लक्षण आने के बाद भी जांच नहीं कराते, जो बहुत विलंब से आते हैं, उनमें जटिलताएं उत्पन्न होती हैं और कभी-कभी किसी मरीज की मृत्यु भी हो जाती है।
  • उन्होंने ठीक हो चुके लोगों से अनुरोध किया कि वे अन्य लोगों को इस बीमारी के बारे में समझायें।
 

देश-विदेश की ताजा ख़बरों के लिए बस करें एक क्लिक और रहें अपडेट 

हमारे यू-टयूब चैनल को सब्सक्राइब करें :

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें :

कृपया हमें ट्विटर पर फॉलो करें:

हमें ईमेल करें : [email protected]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker